दिल्ली सीमा की ओर निकले 15000 किसान, नेता राजी हुए तो वैक्सीन लगाएगी सरकार

22 अप्रैल, 2021
गेहूँ की फसल काटकर किसान दोबारा दिल्ली की ओर चल पड़े हैं (प्रतीकात्मक चित्र)

किसान संगठनों बीकेयू (एकता-उगराहाँ) से जुड़े हजारों कार्यकर्ता बुधवार (अप्रैल 21, 2021) को दिल्ली की सीमाओं पर धरना-प्रदर्शनों के लिए निकल पड़े हैं। संगठन की स्थानीय और जिला इकाइयों द्वारा किराए पर लाए गए वाहनों पर पंजाब और अन्य हिस्सों से लोग गाड़ियाँ भर कर रवाना हुए हैं। इन कथित किसानों में में कई महिलाएँ भी शामिल हैं।

समाचार पत्र ‘टाइम्स ऑफ़ इंडिया’ की रिपोर्ट के अनुसार, बीकेयू (एकता उगराहाँ) के अध्यक्ष जोगिंदर सिंह उगराहाँ, सचिव शिंगारा सिंह मान और कार्यवाह राम सिंह भैनीबाघा की अगुवाई में कई जत्थे सैकड़ों वाहनों में डबवाली, खनौरी और सरदूलगढ़ सीमाओं से रवाना हुए हैं।

बताया जा रहा है कि किसान गेहूँ की फसल काट कर उसे बेचने के बाद एक बार फिर दिल्ली की ओर चल पड़े हैं, ताकि आंदोलन को जीवित रखा जा सके।

बीकेयू (एकता उगराहाँ) के महासचिव सुखदेव सिंह कोकरी कलान ने जत्थों को हरी झंडी दिखाने के बाद कहा, “बड़ी संख्या में महिलाओं सहित लगभग 15,000 कार्यकर्ता टिकरी सीमा के लिए रवाना हुए, जहाँ हजारों कार्यकर्ता पहले से ही जमा हैं। इसके अलावा, पंजाब भर में 42 जगहों पर विरोध प्रदर्शन जारी है और तब तक जारी रहेगा जब तक कि कृषि कानूनों को रद्द नहीं किया जाता।”

उन्होंने कहा कि उन्होंने दिल्ली रवाना होने के लिए 21 अप्रैल का दिन 1913 में इसी दिन अमेरिका में ग़दर पार्टी की नींव रखने वालों की याद में चुना। उन्होंने कहा कि पार्टी की स्थापना भारत से साम्राज्यवादी ताकतों को बाहर निकालने के लिए की गई थी और आज उनका विरोध स्वतंत्रता की दूसरी लड़ाई जैसा ही है।

कोकरी ने कहा कि प्रदर्शनकारी एक सप्ताह के लिए सीमा पर रहेंगे और फिर एक दूसरा जत्था उन लोगों की जगह लेगा, जिन्हें अपने कारणों से लौटना पड़े। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं को विरोध प्रदर्शनों में भेजने का यह सिलसिला जारी रहेगा।

कोरोना महामारी से बचाव के लिए सुरक्षा के तौर पर इन कथित किसानों ने डॉक्टर, हैंड सैनिटाइजर और दवाओं का भी इंतजाम किया है। उनका कहना है कि वह दिल्ली सरकार से किसी प्रकार की दवाई और मदद नहीं लेंगे। 

सरकार लगाएगी किसानों को वैक्सीन

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ लगभग एक साल से प्रदर्शन कर रहे कथित किसानों को ले कर हरियाणा सरकार में गृहमंत्री अनिल विज ने आदेश दिया है कि सिंघु बॉर्डर पर डटे किसानों का कोरोना टेस्ट के साथ उनके लिए वैक्सीन की व्यवस्था भी की जाए।

अनिल विज के निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग के दल सिंघु बॉर्डर पहुँचे हैं। बताया जा रहा है कि आज शाम चार बजे किसान नेताओं के साथ एक बैठक की जाएगी और यदि वो वैक्सीन लगवाने को ले कर अपनी हामी भरते हैं तो सरकार उनके टीकाकरण का इंतजाम करेगी।

अनिल विज ने अपने ट्विटर अकाउंट से इसकी जानकारी देते हुए लिखा कि यदि किसान मान जाते हैं तो स्वास्थ्य विभाग फ़ौरन अपना काम शुरू कर देगा। गौरतलब है कि पिछले दिसंबर माह से दिल्ली की विभिन्न सीमाओं से लगे इलाकों में कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। सिंघु बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी डटे हुए हैं।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार