नाबालिग गैंगरेप पीड़िता को दिल्ली में अधेड़ को बेचा, अफजल के नाम पहले भी निकल चुका है वारंट

27 नवम्बर, 2021
बलात्कार पीड़िता नाबालिग को अफज़ल ने ₹40,000 में बेचा

झारखंड राज्य के लातेहार ज़िले में एक किशोरी को दलाल को बेच देने का गंभीर मामला सामने आया है। जिस किशोरी को बेचा गया, उसका कुछ वर्षों पूर्व सामूहिक बलात्कार भी किया गया था।

झारखंड के लातेहार ज़िले के चंदवा थाना क्षेत्र में आने वाले गाँव में 15-16 वर्ष की एक किशोरी के साथ लगभग 4 वर्ष पहले 3 लोगों द्वारा सामूहिक बलात्कार किया गया। इस जघन्य घटना से किशोरी और उसके परिवार वाले काफी सदमे में थे।

इस बात का फायदा उठा कर क्षेत्र के बोदा गाँव के रहने वाला एक अफज़ल नामक युवक किशोरी को काम दिलाने के बहाने दिल्ली ले गया। जब कुछ समय बाद उसके माता-पिता ने अपनी बच्ची के बारे में उससे पूछा तो उन्हें बताया गया कि वह काम कर रही है।

घर वालों को इस विषय में कुछ संदेह हुआ और उन्होंने अपने स्तर पर जाँच की, जिसके बाद पता चला कि अफज़ल ने उनकी बेटी को दिल्ली ले जाकर ₹40,000 में बेच दिया था। किशोरी को अफज़ल ने जिस दलाल को बेचा, उसने भी किशोरी को एक अधेड़ उम्र के आदमी को ₹85,000 में बेच दिया।  

पीड़िता की माँ ने बच्ची को खरीदने वाले की पहचान उत्तर प्रदेश के बदायूँ क्षेत्र के रहने वाले किसी ‘यादव जी’ के रूप में बताई है। उन्होंने यह भी बताया कि उनकी बच्ची नाबालिग है और जिसने उसे खरीदा है उस व्यक्ति की उम्र करीब 50 वर्ष के आसपास है।

पीड़िता के परिवार का कहना है कि दोनों की शादी भी करा दी गई और अब उनकी एक बच्ची भी हो गई है। पूरे मामले को लेकर अब पीड़िता के परिजन पुलिस में शिकायत करने पहुँचे हैं।


पुराना आरोपित है अफज़ल 

बता दें कि जिस व्यक्ति अफज़ल पर पीड़िता के परिजनों ने किशोरी को बेचने का आरोप लगाया है, यह व्यक्ति पहले भी इस प्रकार के अपराधों में लिप्त रह चुका है। अफजल पर पहले भी एक लड़की को बेचने का आरोप है और चंदवा थाने में ही इसके विरुद्ध इस मामले में वारंट जारी किया गया था, परन्तु अब तक वह पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ सका है।

चंदवा थाने के पुलिस विभाग के आशुतोष कुमार ने पूरे मामले को लेकर कहा की किशोरी को बेचे जाने का यह मामला बहुत गंभीर है। उन्हें इस विषय में जानकारी मिली है, जिसके बाद उन्होंने विस्तृत छानबीन प्रारंभ कर कर दी है।

पुलिस का कहना है कि आरोपित को पकड़ने के लिए छापामारी की जा रही है और मामले में जल्द से जल्द सख़्त कार्रवाई की जाएगी।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:


You might also enjoy

आत्मघात में निवेश