प्रदर्शनकारी 'अन्नदाताओं' पर नर्स ने लगाया यौन शोषण का आरोप: जमकर चल रहा है नशे का धंधा

10 जून, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
अपराधों का अड्डा बना कथित ‘अन्नदाता’ आंदोलन

टिकरी बॉर्डर में चल रहे तथाकथित किसान आंदोलन से एक नर्स के साथ छेड़छाड़ की घटना सामने आई है। यह किसान आंदोलन में किसी महिला के साथ हुए यौन अपराध का दूसरा मामला है। 

लंबे समय से चल रहा तथाकथित किसान आंदोलन इन दिनों आंदोलन कम एवं अपराधों का अड्डा अधिक प्रतीत हो रहा है। कुछ समय पूर्व यहाँ एक महिला के साथ सामूहिक बलात्कार की घटना हुई थी, जिस महिला की बाद में मृत्यु हो गई। इस घटना में एक आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता की गिरफ्तारी हो चुकी है।

पीड़िता नर्स ने सोशल मीडिया के जरिए किया खुलासा

अब एक बार पुनः किसान आंदोलन में कार्य कर रही एक नर्स द्वारा सोशल मीडिया पर अपने साथ हुए यौन शोषण की आपबीती सुनाई गई। पीड़िता ने बताया है कि वह अप्रैल माह में किसान आंदोलन में कोरोना एवं टीकाकरण को लेकर जागरूकता फैलाने की मंशा से गई थी। 

यह जगह बहादुरगढ़ बाईपास के पास सेक्टर-9 में पिंड कैलीफोर्निया के नाम से चर्चित है। वहीं पर डॉक्टर सवाई मानसिंह के कर्मचारियों द्वारा पीड़िता के साथ अभद्रता की गई तथा उसका यौन शोषण भी किया गया, जिस पर डॉक्टर सिंह पूर्ण रूप से चुप रहे। 

पीड़िता नर्स ने आरोप लगाया कि कथित किसानों द्वारा उन पर भद्दी टिप्पणियाँ की गईं एवं जब उन्होंने उन्हें ऐसा करने से रोका तो उन्हें धमकाया गया। पीड़िता ने कहा कि उन्हें वहाँ से जाने के बाद भी ‘स्लट-शेम’ किया गया।

महिला द्वारा जब डॉक्टर सिंह से मामले पर संज्ञान लेने एवं दोषियों को सज़ा देने का आग्रह किया गया तो डॉ सिंह ने कहा कि वह केवल यहाँ दो-तीन दिन से आई है, लेकिन वहाँ मौजूद वॉलंटियर्स चार-पाँच महीने से यहीं हैं, इसलिए वे उन्हें बाहर नहीं कर सकते।

डॉक्टर ने यह भी कहा कि वह महिला की सुरक्षा की कोई ज़िम्मेदारी नहीं लेते, यह भारत है अमेरिका नहीं। पीड़िता नर्स ने कहा है कि जिन्हें इस घटना का सबूत चाहिए, उन्हें डॉ सिंह से इस घटना की सीसीटीवी फुटेज माँगनी चाहिए।


टिकरी बॉर्डर पर पहले भी हुई है बलात्कार की घटना

बता दें कि टिकरी बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में कुछ समय पूर्व एक पश्चिम बंगाल की युवती से सामूहिक दुष्कर्म की घटना हुई थी। घटना के कुछ समय बाद ही पीड़िता की कोरोना संक्रमण के कारण मृत्यु हो गई थी।

इस मामले में 6 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई थी, जिसमें 2 महिलाएँ भी शामिल थी। वारदात के मुख्य 2 आरोपित अनिल मलिक एवं अनूप सिंह आम आदमी पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता हैं। इनमें से एक अनिल मलिक को हरियाणा पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है।

इस मामले में कथित किसान नेता योगेंद्र यादव पर आरोप भी लगा था कि उन्होंने पीड़िता के पिता से मामले को रफा-दफा कर दबाने की बात कही थी।

किसान आंदोलन में जमकर चल रहा नशे का व्यापार

यौन अपराधों के साथ-साथ टिकरी बॉर्डर पर भारी मात्रा में बिक रहे नशे के पदार्थों का भी समाचार आया है। मंगलवार (8 जून, 2021) को टिकरी बॉर्डर पर ही दो युवकों को पकड़ा गया, जिनके पास से चोरी किए गए पर्स व अन्य सामान बरामद किया गया।

इसके बाद ही मंच पर से इस बात की सूचना दी गई तथा यह भी कबूला गया कि आंदोलन स्थल पर भारी मात्रा में नशे का पदार्थ बेचा जा रहा है। पुलिस एवं प्रशासन को इस विषय में कार्रवाई करनी चाहिए।





सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार