PAK: मंदिर में घुस कर हथौड़े से तोड़ डाली भगवान की मूर्तियाँ, कहा- इबादत लायक नहीं होतीं

21 दिसम्बर, 2021 By: DoPolitics स्टाफ़
पाकिस्तान में एक और मंदिर की प्रतिमा पर हमला

पाकिस्तान में हिंदू-विरोधी गतिविधियाँ थमने का नाम नहीं ले रही हैं। पाकिस्तान स्थित कराची में सोमवार (20 दिसंबर, 2021) रात एक हिंदू मंदिर पर कुछ कट्टरपंथियों ने हमला किया और तोड़फोड़ की।

रिपोर्ट्स के अनुसार, कराची के नारायणपुरा इलाक़े में एक व्यक्ति ने मंदिर में तोड़फोड़ की, जिसके बाद स्थानीय हिन्दुओं ने उसे पकड़कर पाकिस्तान पुलिस के हवाले कर दिया। आरोपित के खिलाफ ईदगाह थाने में ईशनिंदा के तहत FIR दर्ज की गई है।

पिछले 22 महीनों में पाकिस्तान में किसी हिंदू मंदिर पर यह 9वाँ हमला है। यह आँकड़ा पाकिस्तान सरकार और वहाँ की उच्चतम अदालत के नोटिस के इस दावे की पोल खोलता है कि वे मंदिरों की रक्षा करेंगे और उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।

यह पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान में हिन्दू अल्पसंख्यकों पर बहुसंख्यक कट्टरपंथियों द्वारा हमला किया जा रहा है। हिंदुओं के साथ-साथ सिखों को भी उनकी आस्था और धर्म का पालन करने की अनुमति नहीं है और अब उनके मंदिरों और गुरुद्वारों पर लगातार हमले हो रहे हैं।

सोमवार शाम सामने आई इस घटना का मामला मुकेश कुमार नाम के शख्स की शिकायत पर ईदगाह थाने में दर्ज किया गया है।   

शिकायत में मुकेश कुमार की ओर से कहा गया है कि जब उनकी पत्नी जोगमाया मंदिर में पूजा करने गई थीं, तभी करीब आठ बजे अचानक एक व्यक्ति हथौड़े के साथ आया और मंदिर में रखी जोगमाया की मूर्ति पर हमला करने लगा।

इस पर मुकेश की पत्नी ने शोर मचाया और शोर सुनकर लोग मंदिर में आस पास के लोग जमा हो गए। इन लोगों ने इस मूर्ति को हथौड़े से मार रहे व्यक्ति को पकड़ लिया।

“इबादत के लायक नहीं हैं प्रतिमाएँ”

मुकेश कुमार के मुताबिक, इस दौरान इलाके की पुलिस भी मौके पर पहुँच गई और इस शख्स को हिरासत में ले लिया गया। पुलिस ने युवक के विरुद्ध ईशनिंदा का मामला दर्ज किया है।

एसएसपी सिटी मजहर नवाज ने पूरे मामले पर कहा कि स्थानीय निवासियों ने हिंसा के लिए संदिग्ध को निशाना बनाया परन्तु, पुलिस मौके पर पहुँच गई थी। 


पूरे घटनाक्रम की वीडियो सोशल मीडिया पर खासी वायरल हो रही है, इसमें खंडित प्रतिमा साफ़ देखी जा सकती है। लोगों ने हमलावर शख्स से पूछताछ की भी वीडियो बनाई।

लोग वीडियो में आरोपित से पूछते दिखते हैं कि उसने यह हरकत क्यों की? जिसके जवाब में इस व्यक्ति ने मंदिर और प्रतिमा के लिए कहा कि ये इबादत के लायक नहीं हैं।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: