'मुस्लिम सुपरस्टार' है शाहरुख, इसलिए बनाया गया निशाना: The Wire की 'पत्रकार' आरफा

12 अक्टूबर, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
ड्रग्स के मामले में फँसे आर्यन खान के समर्थन में उतरा इस्लामी-वामपंथी धड़ा

बहुचर्चित बॉलीवुड कलाकार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग्स की तस्करी और ड्रग्स लेने के मामले में पकड़े जाने को लेकर इंटरनेट पर लोगों के कई विचित्र और बेहूदा बयान भी सामने आए हैं।

ऐसा ही एक बयान ‘द वायर’ की कथित पत्रकार आरफा खानम शेरवानी ने भी ट्वीट के माध्यम से साझा किया। इसमें उन्होंने ड्रग्स जैसे गंभीर मामले को भी मज़हबी रंग दे दिया और शाहरुख के बेटे आर्यन खान को ही एक पीड़ित बता दिया।

गत सप्ताह से सुर्खियों में रहा शाहरुख के बेटे आर्यन खान का एक रेव पार्टी में पकड़ा जाना और उसके बाद आर्यन पर चल रही कार्रवाई मीडिया में पूरे जोर-शोर से चल रही है। 2 अक्टूबर, 2021 को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने मुंबई में एक क्रूज़ शिप पर चल रही रेव पार्टी में छापा मारा था। इसमें बहुचर्चित अदाकार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान समेत एनसीबी ने मुनमुन धमेचा, अरबज़ मर्चेंट समेत पाँच अन्य चर्चित लोगों को गिरफ्तार किया था। 

आर्यन खान पर आईपीसी की धारा 8C, 20B, धारा 27 और 35 के तहत मामला दर्ज किया गया था। इसके उपरांत जब आर्यन खान को न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया तो न्यायालय ने उसे ज़मानत देने से भी इनकार कर दिया।

‘मुस्लिम सुपरस्टार शाहरुख़’ हैं निशाना  

इस पूरे मामले पर अब मीडिया का एक धड़ा आर्यन खान को पीड़ित दिखाने का संपूर्ण प्रयास कर रहा है और इस उसकी मज़हबी पहचान को भी एक हथियार की तरह उपयोग कर रहा है। इसी सिलसिले में ‘द वायर’ की पत्रकार आरफा शेरवानी ने ट्वीट करते हुए लिखा: 

“आर्यन खान के मामले का ड्रग्स से कोई लेना देना नहीं है। यह पूर्ण रूप से शाहरुख खान पर निशाना साधे जाने का मामला है। इस आज़ाद देश में आर्यन की बेल होना भी मुश्किल हो रहा है।”


आरफा ने आगे कहा कि शाहरुख खान इस समय के सबसे बड़े ‘मुस्लिम सुपरस्टार’  हैं, जिसके कारण ही उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। 

इसके साथ कम्युनिस्ट पार्टी (CPIML) की पॉलित ब्यूरो सदस्य कविता कृष्णन ने भी आर्यन खान के समर्थन में ट्वीट करते हुए लिखा कि आर्यन खान को केवल इसलिए निशाना बनाया जा रहा है क्योंकि वह शाहरुख खान का बेटा है, और शाहरुख खान एक ‘सफल मुसलमान’ व्यक्ति है, और इसी कारण यह इंसान हिंदुओं को खटकता है।


‘बायजूज़’ ने भी किया किनारा 

देशभर में इस मामले को लेकर लोगों द्वारा सोशल मीडिया पर खासा विरोध देखने को मिला है। बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई कराने वाली कंपनी ‘बायजूज़’ ने भी शाहरुख खान द्वारा अपनी कम्पनी के लिए किए जाने वाले विज्ञापनों पर लगाम लगा दी है। 

बता दें कि शाहरुख खान एक लंबे समय से ‘बायजूज़’ के लिए ऐड किया करते थे। अब उन्हीं के बेटे के ड्रग्स के मामले में पकड़े जाने को लेकर ‘बायजूज़’ अपने उपभोग्ताओं को लेकर भी गंभीर प्रतीत हो रही है।

इसका एक कारण यह भी है कि ‘बायजूज़’ के अधिकतर उपभोक्ता छोटे बच्चे हैं और आर्यन पर लगे मामले की गंभीरता को दखते हुए कम्पनी कभी बच्चों पर अपने माध्यम से किसी प्रकार का नकारात्मक प्रभाव नहीं छोड़ना चाहेगी।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार