UP चुनाव स्थगित करने पर विचार करें, जान है तो जहान है: Omicron के बढ़ते खतरे पर इलाहाबाद HC की केंद्र से अपील

24 दिसम्बर, 2021 By: DoPolitics स्टाफ़
कोर्ट ने कहा कि प्रधानमंत्री चुनाव टालने पर भी विचार करें, क्योंकि जान है तो जहान है

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गुरुवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे को देखते हुए आगामी उत्तर प्रदेश चुनावों को स्थगित करने का आग्रह किया है। हाईकोर्ट ने कहा कि राजनीतिक पार्टियों से कहा जाए कि वह चुनाव प्रचार टीवी व समाचार पत्रों के माध्यम से करें। कोर्ट ने देश के लोगों को मुफ्त कोरोना टीकाकरण मुहैया कराने के लिए पीएम मोदी की सराहना भी की।

हाईकोर्ट की बेंच एक जमानत याचिका पर विचार कर रही थी और महसूस किया कि अदालत के समक्ष लगभग 400 मामले सूचीबद्ध हैं। इस कारण सुनवाई में बड़ी संख्या में अधिवक्ता मौजूद हैं।

इस पर कोर्ट ने चिंता जाहिर करते हुए कहा,

“अधिवक्ताओं द्वारा उचित दूरी के मानदंडों का पालन नहीं किया जा रहा है। वे सभी एक-दूसरे के करीब खड़े हैं, जबकि देश में कोरोना का नया वेरिएंट ओमीक्रोन आ गया है और इसके मरीज दिन प्रति दिन बढ़ते जा रहे हैं।”

इसके बाद न्यायमूर्ति शेखर यादव की पीठ ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए प्रधानमंत्री से कड़े कदम उठाते रैलियों, बैठकों और चुनावों को रोकने और स्थगित करने पर विचार करने का आग्रह किया।

हाईकोर्ट ने कहा,

“यूपी में विधानसभा के चुनाव नजदीक हैं, जिसके लिए पार्टियाँ रैलियाँ और बैठकें कर रही हैं, जिनमे लाखों की भीड़ इकट्ठी हो रही है। इन कार्यक्रमों में कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना संभव नहीं है। अगर इसे समय रहते रोका नहीं गया तो परिणाम दूसरी लहर से भी ज्यादा भयावह होगा।”

पीठ ने चुनाव आयोग से भी राजनीतिक दलों को राजनीतिक रैलियाँ, बैठकें आदि आयोजित करने से रोकने के लिए तत्काल निर्देश जारी करने का आग्रह किया। हाईकोर्ट ने कहा,

“चुनाव आयोग राजनीतिक दलों को आदेश दें कि वे अपना चुनावी प्रचार रैल में भीड़ जुटाकर नहीं, बल्कि दूरदर्शन या समाचार पत्रों के माध्यम से करें और यदि संभव हो तो फरवरी में होने वाले चुनावों को एक महीने के लिए स्थगित कर दें, क्योंकि जान रहेगी तो चुनाव और चुनावी रैलियाँ होती रहेंगी।”

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कहा, “(उत्तर प्रदेश) ग्राम पंचायत और बंगाल चुनाव में लोग बड़ी संख्या में कोविड संक्रमण का शिकार हुए थे और कई लोगों को अपनी जान गँवानी पड़ी। इसलिए अगर संभव हो तो फरवरी में होने वाले चुनाव को एक या दो महीने के लिए टाल दिया जाना चाहिए क्योंकि अगर जीवन चलता रहा तो चुनावी रैलियाँ चलती रहेंगी।”

कोर्ट ने कोविड टीकाकरण अभियान के लिए की पीएम मोदी की तारीफ

हाईकोर्ट की बेंच ने देश भर में कोरोना वायरस टीकाकरण की कमान अपने हाथ में लेने और इसे सफलतापूर्वक अंजाम देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की खुले दिल से प्रशंसा की। हाईकोर्ट ने पीएम मोदी के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा,

“हमारे माननीय प्रधानमंत्री ने इतनी बड़ी आबादी वाले देश में कोरोना मुक्त टीकाकरण के लिए एक अभियान शुरू किया है। यह काबिले तारीफ है और कोर्ट इसकी तारीफ करता है। हम माननीय प्रधान मंत्री जी से अनुरोध करते हैं कि वे कदम उठाएँ और भयावह स्थिति को देखते हुए रैलियों और चुनावों को रोकने और स्थगित करने पर विचार करें… जान है तो जहान है।”



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: