नीरव मोदी, विजय माल्या जैसे भगौड़ों की संपत्ति की बिक्री कर सरकार ने कमाए ₹13,109 करोड़

20 दिसम्बर, 2021 By: DoPolitics स्टाफ़
निर्मला सीतारमण ने कहा कि लोन लेकर भागने वालों की संपत्तियाँ बेचकर बैंकों ने 13,109 करोड़ रुपए वसूल किए

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार (दिसंबर 12, 2021) को संसद के निचले सदन को बताया कि बैंकों ने नीरव मोदी, विजय माल्या जैसे डिफ़ॉल्टर्स की संपत्ति की बिक्री से लगभग ₹13,109 करोड़ की वसूली की है।

इसके अलावा, वित्त मंत्री ने लोकसभा में कहा कि पिछले सात वर्षों में फँसे कर्ज (Bad Loans) के समाधान के जरिए 5.49 लाख करोड़ रुपए की वसूली की गई है। केंद्रीय एजेंसी ने ‘प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट’ (पीएमएलए) के तहत इन संपत्तियों को जब्त कर लिया है।

उल्लेखनीय है कि एक ब्रिटिश अदालत ने विजय माल्या को दिवालिया घोषित कर दिया है।इस फैसले ने भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के नेतृत्व में भारतीय बैंकों द्वारा अब बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस के बकाया कर्ज की अदायगी के लिए दुनियाभर में फ्रीजिंग ऑर्डर के रास्ते खोल दिए हैं।

इस केस में भारत सरकार की ओर से एसबीआई, ईडी और सीबीआई ने केस लड़ा था। माल्या के ऊपर भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ़ बड़ौदा और पंजाब नेशनल बैंक समेत 13 बैंकों का बकाया है। इन बैंकों के कंसोर्शियम की अगुवाई एसबीआई कर रहा था। बैंक चाहते थे कि उसको दिवालिया घोषित करके विदेश में मौजूद संपत्ति भी जब्त की जाए।

जब तक उसके प्रत्यर्पण से संबंधित कानूनी कार्यवाही पूरी नहीं हो जाती है, 65 वर्षीय भगोड़ा व्यवसायी विजय माल्या इस बीच यूके में जमानत पर रहेगा। माल्या पर तीन बैंकों से ₹9,000 करोड़ रुपए के घोटाले करने का आरोप है।

वहीं, दो और भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी, जो पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ऋण धोखाधड़ी मामले में मुख्य आरोपित हैं, ने बैंक को ₹13,000 करोड़ का चूना लगाया है।

लोकसभा को सम्बोधित करते हुए केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना से प्रभावित समय में अर्थव्यवस्था के बड़े विषयों पर ध्यान देने को लेकर सरकार की प्रतिबद्धता के बारे में इस बात की जानकारी दी।

लोकसभा ने वर्ष 2021-22 की पूरक अनुदान माँगों के दूसरे बैच पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि बैंक सुरक्षित हैं, बैंकों में जमाकर्ताओं के पैसे सुरक्षित हैं और अर्थव्यवस्था से जुड़े बड़े विषयों पर ध्यान दिया जा रहा है।

उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि राज्यों के पास पर्याप्त नकदी शेष है और केवल दो राज्य ऐसे हैं, जिनकी नकदी नकारात्मक है।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: