बंगाल: बांग्लादेश का वीज़ा लेकर घुस रहे संदिग्ध चीनी को BSF ने पकड़ा, पूछताछ जारी

10 जून, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
पकड़ा गया संदिग्ध चीनी नागरिक

बीएसएफ ने बृहस्पतिवार (10 जून, 2021) को भारत-बांग्लादेश की सीमा के पास से एक 35 वर्षीय संदिग्ध चीनी नागरिक को गिरफ्तार किया है। उसके पास से बांग्लादेश का वीजा बरामद हुआ है।

इस 35 वर्षीय संदिग्ध चीनी आदमी से कैमरा व लैपटॉप भी बरामद हुआ है। चीनी नागरिक की गतिविधियाँ संदिग्ध पाई गई हैं, जिसके चलते उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

भारत-बांग्लादेश की सीमा के पास बंगाल में माल्दा जिले के मिलिक सुल्तानपुर से एक चीनी नागरिक गिरफ्तार किया गया है। हान जुनवे नाम के इस चीनी नागरिक को अवैध तरीके से भारत में घुसे जाने के आरोप में बीएसएफ ने पकड़ा है।

अधिकारियों के अनुसार, इस संदिग्ध से एक लैपटॉप, तीन मोबाइल, भारतीय, बांग्लादेशी, अमेरिकी मुद्रा, बांग्लादेशी वीजा, चीनी पासपोर्ट और कुछ इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स बरामद किए गए हैं।

इस चीनी नागरिक से जुड़ी अन्य जानकारियाँ अभी सामने नहीं आई हैं क्योंकि बीएसएफ के वरिष्ठ अधिकारी मामले की संवेदनशीलता के कारण अभी कुछ भी कहने से बच रहे हैं।

हालाँकि, अधिकारियों की ओर से यह आश्वासन दिया गया है कि पूछताछ के दौरान किसी ठोस खुलासे के बाद सभी जानकारियाँ साझा की जाएँगी।


आईबी सहित अन्य खुफिया एजेंसियाँ कर रहीं पूछताछ

संक्षिप्त जानकारी देते हुए अर्धसैनिक बल ने एक बयान में कहा कि उसके पास से एक लैपटॉप, बांग्लादेश का वीजा और पासपोर्ट बरामद किया गया है। बीएसएफ ने कहा कि संबंधित एजेंसियाँ ​​संदिग्ध चीनी नागरिक से पूछताछ कर रही हैं।

बीएसएफ के एक सूत्र ने कहा कि अर्धसैनिक विंग के सैनिकों ने चीनी नागरिक को कुछ संदिग्ध गतिविधियाँ करते पाया, जो देश की सुरक्षा के खिलाफ हो सकती हैं।

एक सरकारी सूत्र ने कहा कि जैसे ही चीनी नागरिक को पकड़ा गया तुंरन्त ही मामले को गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय के संज्ञान में लाया गया। खुफिया ब्यूरो आईबी के अलावा अन्य संबंधित एजेंसियों से जुड़ी टीमें संदिग्ध चीनी नागरिक से पूछताछ करने पहुँच गई हैं।

2 दिन पहले ही पकड़े गए हैं दो अवैध रोहिंग्या घुसपैठिए

बुधवार को ही उत्तर प्रदेश एटीएस ने गाजियाबाद के डासना से 2 अवैध रोहिंग्या मुसलमानों को पकड़ा था जो जाली कागजातों के सहारे लंबे समय से भारत में रह रहे थे।


उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंगलवार (8 जून, 2021) को जानकारी देते हुए बताया था कि भारत में अवैध रूप से रह रहे दो रोहिंग्याओं को एटीएस द्वारा गिरफ्तार किया गया है। यूपी के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने सोमवार को गाजियाबाद के डासना में ये गिरफ्तारी की थी।

गिरफ्तार रोहिंग्या नूर आलम और आमिर हुसैन नाम के इन दो अवैध घुसपैठियों के पास से जाली पासपोर्ट, संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायुक्त कार्ड और नगद रुपए बरामद हुए थे। नूर आलम फर्जी कागजात बनवाकर अवैध घुसपैठियों को भारत में प्रवेश कराता था और उन्हें देश के अलग-अलग हिस्सों में बसा देता था।

जाली कागजातों के सहारे नूर आलम मेरठ में और आमिर हुसैन दिल्ली की खजूरी खास की श्री राम कॉलोनी में रह रहा था। आलम और हुसैन दोनों म्यांमार के रखाइन प्रांत के निवासी हैं। आलम एटीएस द्वारा 6 जनवरी को अवैध रूप से भारत मे रहने के आरोप में गिरफ्तार किए गए रोहिंग्या अजीमुल्ला का साला है।





सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार