ब्राह्मणों को देश छोड़ जाना होगा, दक्षिण के बाद UP में भी होंगे अनाथ: कॉन्ग्रेसी CM के पापा का बयान

31 अगस्त, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
ब्राह्मणों को देश से निकलने का स्वप्न देख रहे हैं कॉन्ग्रेसी सीएम के पिता

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल के पिता द्वारा दिया गया एक विवादित बयान सामने आया है। सोशल मीडिया पर उनका यह वीडियो खासा वायरल हो रहा है। इसमें मुख्यमंत्री के पिता ब्राह्मणों के विरुद्ध बेहूदा बयानबाज़ी करते देखे जा सकते हैं। वीडियो में मुख्यमंत्री के पिता यहाँ तक कहते देखे गए कि ब्राह्मणों को भारत देश छोड़ कर जाना होगा।

वामपंथियों की हिंदूघृणा के साथ-साथ ब्राह्मणों के प्रति ईर्ष्या भी किसी से छिपी नहीं है। समय-समय पर ये लोग अपनी हिंदूघृणा का प्रदर्शन करते ही रहते हैं। बता दें कि जेएनयू विश्वविद्यालय में ‘ब्राह्मण भारत छोड़ो’ जैसे नारे लिखे गए थे।

कुछ ऐसा ही एक मामला पुनः देखने को मिला है। छत्तीसगढ़ के कॉन्ग्रेसी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल ने मीडिया से बातचीत करते हुए ब्राह्मणों के विरुद्ध बयानबाज़ी की है।

‘ब्राह्मणों को गाँव में घुसने न दें’ 

बघेल ने अपने बयान में ब्राह्मणों को ‘विदेशी आक्रांता’ बताया और कहा कि वे ब्राह्मणों को वहीं भेजेंगे जहाँ से वे आए हैं। बघेल ने कहा कि जिस प्रकार ब्राह्मण दक्षिण भारत में अनाथ हो गए हैं, यही हाल उनका अब उत्तर प्रदेश में भी होगा।

बघेल से जब पूछा गया कि उनकी ब्राह्मणों के प्रति इस प्रकार की ईर्ष्या और उनसे नाराज़गी क्यों है, तो बघेल ने कहा:

“ब्राह्मणों से इसलिए नाराज़गी है क्योंकि ब्राह्मण विदेशी हैं और हम को अछूत मानते हैं। वे हमारे सारे अधिकारों को छीन रहे हैं और इसीलिए उन से लड़ाई ज़रूरी है। इसी कारण हम हर समाज से ब्राह्मणों का बॉयकॉट करने की अपील करते हैं। इन्हें गाँव में घुसने न दिया जाए। हम सरपंचों को भी कहेंगे कि वे ब्राह्मणवाद का विरोध करें।”


बघेल ने यह भी कहा कि ब्राह्मण उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी अछूत मानते हैं। इसी कारण वे भी हमारा साथ दें। बघेल ने आगे कहा कि योगी आदित्यनाथ क्षत्रिय जाति के हैं और ब्राह्मणों उन्हें राम मंदिर में भी घुसने नहीं देते हैं, इसी कारण वे योगी आदित्यनाथ से भी मिलकर ब्राह्मणों के बहिष्कार का प्रस्ताव रखेंगे।

बघेल के मुताबिक वे 6 सितंबर, 2021 से एक व्यापक आंदोलन करने जा रहे हैं। इससे पहले वे 5 सितंबर को मुख्यमंत्री योगी से मुलाकात करेंगे। बघेल ने इस पर कहा कि लड़ाई से पहले बात करना आवश्यक है।

बघेल इस आंदोलन के माध्यम से लड़ने-मरने और हिंसक होने की के भी विचार रखते हैं। इस बात का अंदाज़ा इससे लगाया जा सकता है कि उन्होंने कहा कि युद्ध से पहले उन्हें समझौता वार्ता करनी है।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार