डॉक्टर्स से मनचाहा बयान निकलवा रही है झारखंड पुलिस: कोर्ट ने जज की 'हत्या' को बताया षड्यंत्र

04 अगस्त, 2021
उत्तम आनंद की हत्या को लेकर झारखंड उच्च न्यायालय सख़्त

धनबाद के ज़िला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद (Judge Uttam Anand) की हत्या के मामले में राज्य पुलिस पर सवाल उठ रहे हैं। झारखंड न्यायालय ने इस मामले में स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) पर बयानों के साथ खिलवाड़ करने को लेकर फटकार लगाई और सख्त हिदायत दीं।

झारखंड के धनबाद ज़िले के 49 वर्षीय न्यायाधीश उत्तम आनंद की 28 जुलाई की सुबह 5:00 बजे मॉर्निंग वॉक करते समय कथित तौर पर हत्या कर दी गई थी। सीसीटीवी फुटेज में यह देखा जा सकता है कि एक ऑटो उन्हें टक्कर मारकर फरार हो गया, परंतु ध्यान से देखने पर प्रतीत होता है की ऑटो द्वारा जानबूझकर न्यायाधीश को टक्कर मारी गई।


इस मामले में पुलिस द्वारा 2 लोगों को हिरासत में लिया गया था और यह भी सामने आया था कि जिस ऑटो से वारदात को अंजाम दिया गया, वह 2 घंटे पहले ही चोरी किया गया था। इस कारण इस घटना में हत्या का शक भी जा रहा है।


झारखंड पुलिस कर रही गुमराह 

इस मामले की जाँच को लेकर झारखंड की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम पर पूछताछ में गड़बड़ी के आरोप लग रहे हैं। न्यायालय के सामने प्रस्तुत की गई ऑटोप्सी की रिपोर्ट में मृत्यु का कारण किसी ठोस चीज़ से वार करके सिर पर चोट लगना बताया जा रहा है।

इस मामले पर झारखंड उच्च न्यायालय ने कहा कि पुलिस मामले में जानबूझकर चिकित्सकों से ऐसे सवाल पूछ रही है, जिनसे उन्हें मन मुताबिक उत्तर मिल सके। पुलिस ने चिकित्सकों से पूछा कि वे बताएँ कि क्या इस प्रकार की सिर पर चोट गिरकर भी लग सकती है या नहीं?

ऐसे ही कुछ सवालों का संदर्भ लेते हुए झारखंड उच्च न्यायालय ने राज्य पुलिस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जब सीसीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है और रिपोर्ट में मृत्यु का कारण लिखा है तो इस प्रकार के सवाल करके पुलिस क्या साबित करना चाहती है? 

न्यायालय ने यह भी कहा कि चिकित्सकों को एक निश्चित तरीके के प्रश्न पूछ कर अपने मन मुताबिक उत्तर निकलवाना किसी भी प्रकार उचित नहीं है।

षड्यंत्र को उजागर कर ‘कुख्यात’ को पकड़ना आवश्यक

न्यायालय ने इस पूरे मामले को ‘षड्यंत्र’ का नाम दिया है क्योंकि इस प्रकार एक खाली सड़क पर किसी ऑटो रिक्शा का इस तरह तीव्र मोड़ लेते हुए किसी से टकराना साजिश की ओर इशारा करता है। इस मामले पर न्यायालय ने कहा कि इस ‘षड्यंत्र’ का पर्दाफाश करना और उसके पीछे के आरोपित को पकड़ना बहुत आवश्यक है।

न्यायालय ने आगे कहा कि इस मामले में समय भी बहुत कीमती है। अगर मामले की जाँच में देरी होती है तो यह भी जाँच पर विपरीत दिशा में यानी नकारात्मक प्रभाव डालेगा। इसके साथ-साथ न्यायालय ने घटना की एफआईआर को लेकर भी सवाल किया कि हादसे के बाद मामले की एफआईआर करने में इतनी देर क्यों हुई?



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: