PAK: सिंध प्रान्त के श्रीराम मंदिर में मूर्तियाँ तोड़ कीमती सामान चुरा ले गए कट्टरपंथी

29 अक्टूबर, 2021
पाकिस्तान के सिंध में एक और मंदिर पर हमला, बहुमूल्य वस्तुएँ भी चोरी

भारत के पड़ोसी इस्लामी देशों में अल्पसंख्यक हिंदुओं पर अत्याचार कोई नया चर्चा का विषय नहीं है। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में एक बार फिर अल्पसंख्यक हिंदुओं के मंदिर क्षतिग्रस्त करने का मामला सामने आया है। यहाँ कुछ उपद्रवियों ने कोटरी क्षेत्र के श्री राम मंदिर में तोड़फोड़ और चोरी की और मंदिर की प्रतिमाएँ भी क्षतिग्रस्त कीं।

पड़ोसी देश बांग्लादेश में आए दिन हिंदुओं के मंदिर तोड़े जाने और उनके घरों तक पर हमले के कई समाचार आते रहते हैं। कुछ ही दिनों पहले दुर्गा पूजा के समय एक उग्र इस्लामी भीड़ ने दुर्गा पूजा के पांडालों पर हमला किया था, जिसमें इन पांडालों में तोड़फोड़ की गई और कई दुर्गा की प्रतिभाएँ तक क्षतिग्रस्त की गई थीं। इस मौके पर एक फर्जी खबर चलाई गई थी, जिसमें कहा गया कि हिंदुओं ने दुर्गा पांडाल में कुरान रखकर उसकी तौहीन की है।

बांग्लादेश पुलिस द्वारा इस मामले में जाँच के दौरान CCTV के माध्यम से एक व्यक्ति की पहचान की गई थी, जिस ने जानबूझकर कुरान हनुमान की मूर्ति के पास रखी। बता दें कि यह व्यक्ति मुस्लिम समुदाय से ही आता है और इसका नाम इक़बाल हुसैन है।

शुक्रवार (29 अक्टूबर, 2021) को पड़ोसी देश पाकिस्तान से भी एक ऐसा ही समाचार सामने आया। पाकिस्तान के सिंध प्रांत के कोटरी क्षेत्र में श्रीराम मंदिर में इसी प्रकार का उपद्रव किया गया। कोटरी क्षेत्र में बना यह मंदिर अघानी मंदिर के नाम से जाना जाता है।

क्षेत्र में ही रहने वाले स्थानीय हिंदुओं ने बताया की एक भीड़ द्वारा मंदिर पर हमला किया गया, जिसमें वे लोग मंदिर से सोने की बनी कई बहुमूल्य वस्तुएँ चुरा कर ले गए।

स्थानीय लोगों ने कहा कि मंदिर में न केवल चोरी हुई बल्कि उनके भगवानों की प्रतिमाओं का भी अपमान किया गया। अब तक की आई रिपोर्ट में देखा जा सकता है कि मूर्तियों को क्षतिग्रस्त किया गया है।


पुलिस को जाँच के निर्देश 

पूरे मामले को लेकर सिंध प्रांत के अल्पसंख्यक विभाग के मंत्री ज्ञानचंद इसरानी ने क्षेत्र के एसएससी को मामले की कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पुलिस से कार्रवाई करने के साथ ही कहा कि आरोपितों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी होनी चाहिए और जो भी बहुमूल्य वस्तुएँ चोरी हुई हैं, उन्हें जल्दी ढूँढ निकाला जाए।

बता दें कि पड़ोसी देश बांग्लादेश की तरह ही इस्लामी मुल्क पाकिस्तान में भी अल्पसंख्यक हिंदुओं की स्थिति कुछ विशेष अच्छी नहीं है। लगभग पूरे देश से समाप्त हो चुके हिंदू मुख तौर पर सिंध प्रांत में ही बचे हैं और इनकी गिनती भी कुछ खास नहीं है। पाकिस्तान के कट्टरपंथी समूहों द्वारा निरंतर इन पर भी हमले होते रहते हैं।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: