हिमाचल: अवैध मजार को तोड़ रहे युवक का वीडियो वायरल, 'औरंगजेब की औलादों' को दिया सन्देश

18 जनवरी, 2022 By: DoPolitics स्टाफ़
हिमाचल प्रदेश में ‘लैंड जिहाद’ के विरुद्ध खड़ा हुआ हिंदू जागरण मंच

हाल ही में सोशल मीडिया पर हिमाचल प्रदेश राज्य की एक वीडियो साझा हो रही है, जिसमें कुछ लोग एक मज़ार पर चढ़कर उसका गुंबद तोड़ते नजर आते हैं। ये लोग हिंदू जागरण मंच हिमाचल के बताए जा रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि हिमाचल में चल रहे भारी मात्रा में ‘लैंड जिहाद’ के विरुद्ध यह कार्रवाई की गई।

सोशल मीडिया पर सोमवार (17 जनवरी, 2022) के दिन हिमाचल के कुछ वीडियो सामने आए। ये वीडियो कमल गौतम नामक व्यक्ति के फेसबुक पेज पर साझा किए गए हैं और बताया जा रहा है कि वे हिंदू जागरण मंच हिमाचल के सदस्य हैं।

कमल ने पहले अपने फेसबुक पेज पर एक वीडियो साझा किया जो हिमाचल के सिरमौर ज़िले का है। वीडियो में दिखाया गया कि करोड़ों रुपए की सरकारी भूमि पर अवैध मज़ार का निर्माण किया गया है। 

इतने के साथ ही आगे वीडियो में यह भी देखा जा सकता है कि मदरसे के परिसर में कुछ कमरे बनाए गए हैं और उन्हें किराए पर चढ़ा कर एक आय का स्रोत तैयार किया गया है। वीडियो में आगे बताया गया कि हिंदू जागरण मंच के लोगों ने कमरों पर ताले लगवा कर उन्हें बंद करवा दिया।

आगे हिंदू जागरण मंच के कुछ लोग कहते हैं:

“आप देख सकते हैं कि राजस्व विभाग की भूमि पर मज़ार के नाम पर अवैध रूप से अतिक्रमण किया जा रहा है, और यह बड़े पैमाने पर किया गया है।”


वीडियो में यह भी बताया गया कि महीने गुज़र जाने के बाद भी इस अतिक्रमण को हटाया नहीं गया है।

इसके कुछ समय बाद कमल गौतम के फेसबुक पेज पर ही एक अन्य वीडियो साझा किया गया जिसमें राज्य में चल रहे लैंड जिहाद के विरुद्ध कार्रवाई करते कुछ लोग देखे जा सकते हैं।

इसमें ये लोग मज़ार पर चढ़े हुए हैं और उसके गुंबद को तोड़ रहे हैं। इस पोस्ट पर वीडियो के साथ लिखा गया:

“देवभूमि के कोने-कोने को मुक्त कराएँगे, देवभूमि से लैंड जिहाद को मिटाएँगे। सुन लो औरंगजेब की नाजायज औलादों…देवभूमि में जहाँ भी तुम जाओगे….अपने विरुद्ध शिवाजी को खड़ा पाओगे…”

फिलहाल राज्य प्रशासन या पुलिस की ओर से इस विषय में कोई विशेष बयान या टिप्पणी नहीं आई है।

उत्तर भारत के कई राज्य प्रभावित 

बता दें कि हिमाचल प्रदेश समेत उत्तराखंड और उत्तर भारत के कई राज्यों में मज़ार के नाम पर अतिक्रमण और सरकारी भूमि पर भी कब्ज़े जैसे मामले देखने को मिलते रहे हैं।

कुछ दिनों पहले दिल्ली में भी ऐसा ही मामला सामने आया था जहाँ आज़ादपुर फ्लाईओवर पर एक मज़ार को लेकर सवाल उठे थे। साथ ही दिल्ली के छतरपुर क्षेत्र में भी जुलाई 2021 में भी मज़ार को लेकर एक विवाद हुआ था।

एक युवती का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था, जिसमें वह सड़क के बीच में बनी अवैध मज़ार को अकेले हटाती देखी गई थी।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: