कानपुर: व्यापार के जरिए इस्लाम का प्रचार, ग्राहकों को मिलता है 'इस्लाम ही समाधान है' का सन्देश

20 अक्टूबर, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
कानपुर में दुकान के बिल के माध्यम से हो रहा मज़हब का प्रचार

उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक दुकान के बिल के माध्यम से मज़हबी प्रचार का एक मामला सामने आया है। इसे अंजाम देने वाला व्यक्ति फिलहाल फरार है और पुलिस मामले की जाँच कर रही है। 

उत्तर प्रदेश में कुछ समय पूर्व पंथ परिवर्तन कराने वाले एक गिरोह का खुलासा हुआ था। इस मामले में उमर गौतम नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था। यह व्यक्ति और इनका गिरोह मूक बधिर बच्चों को अपना शिकार बनाते थे और उनका ब्रेनवाश करके उनका पंथ परिवर्तन करते थे। ऐसा ही एक मज़हब के प्रचार का मामला अब उत्तर प्रदेश के ही कानपुर से सामने आया है।


कानपुर के मेस्टन रोड क्षेत्र की एक दुकान का बिल (पर्ची) सामने आया है। इसमें दुकान से खरीदे गए सामान का ब्यौरा है, जिसके साथ ही नीचे एक कोने पर ‘इस्लाम इज़ द ओन्ली सॉल्यूशन’ लिखा है। इसका अर्थ है कि ‘इस्लाम ही एक मात्र समाधान है’। 

स्वराज्य की वरिष्ठ पत्रकार स्वाति गोयल शर्मा ने ट्विटर पर यह तस्वीर साझा की और लिखा कि यह व्यापार के माध्यम से ‘दावाह’ है। यह तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। 


पुलिस ने दिए जाँच के निर्देश 

सोशल मीडिया पर लोगों के भारी बवाल के बाद पुलिस द्वारा मामले को गंभीरता से लिया गया। पुलिस ने जब पर्ची पर लिखे नम्बर पर फोन किया तो फिलहाल नम्बर बन्द बताया जा रहा है। प्रारंभिक जाँच में यह सामने आया है कि यह पर्ची मेस्टन रोड की एक रबड़ की दुकान की है और इससे संबंधित व्यक्ति की पहचान भी की जा चुकी है। 

पुलिस आयुक्त ने पूरे मामले में कहा है कि इसकी गंभीरता से जाँच की जाएगी और आरोपित को उचित सज़ा दी जाएगी। साथ ही एलआईयू को भी मामले को लेकर निर्देश दिए गए हैं कि ऐसे अन्य मामलों की भी जाँच की जाए और कार्रवाई की जाए। 

बता दें कि कुछ समय पूर्व उत्तर प्रदेश में एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन का वीडियो सोशल मीडिया पर ख़ासा वायरल हुआ था। इसके बाद से वे सवालों के घेरे में आ गए थे। वीडियो वर्ष 2016 का बताया गया था। इसमें एक इस्लामी स्पीकर को इस्लाम पंथ का प्रचार करते हुए सुना जा सकता था।

पूरी वीडियो के सामने आने के बाद इस पर विवाद खड़ा हो गया और इसलिए मामले की जाँच के लिए एक एसआईटी का गठन किया गया था।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार