J&K: कनाडा जाने वाले थे नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता त्रिलोचन सिंह, फ्लैट से मिला सड़ा हुआ शव

09 सितम्बर, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
त्रिलोचन सिंह वजीर का 3 सितंबर के बाद से परिवार से कोई संपर्क नहीं हो पाया था

जम्मू कश्मीर विधान परिषद के पूर्व सदस्य और जम्मू से नेशनल कॉन्फ्रेंस के वरिष्ठ नेता त्रिलोचन सिंह वजीर (67) बृहस्पतिवार (09 सितम्बर, 2021) सुबह पश्चिमी दिल्ली के मोती नगर इलाके में रहस्यमय परिस्थितियों में मृत पाए गए।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि मोती नगर स्थित बसई दारापुर के एक फ्लैट में आज सुबह उनका शव सड़ी गली अवस्था में मिला।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “वह दिल्ली के मोती नगर इलाके में मृत पाए गए। उनके परिवार के सदस्य दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। अभी तक हमारे पास कोई अन्य विवरण नहीं है।”

हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, त्रिलोचन सिंह वजीर की हत्या की गई है, लेकिन अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई है। बताया जा रहा है कि वज़ीर कनाडा जाने वाले थे, लेकिन गत 2 सितंबर से ही वो दिल्ली में लापता हो गए थे।

वज़ीर जम्मू के एक बड़े नेता थे और उन्होंने नियमित रूप से सिख समुदाय के सामने आने वाले मुद्दों को उठाया। पूर्व एमएलसी, प्रमुख ट्रांसपोर्टर और जम्मू-कश्मीर गुरुद्वारा प्रबंधक बोर्ड के प्रधान रहे त्रिलोचन सिंह की उम्र 67 वर्ष थी।

वो सिख कट्टरपंथी समूहों और उनकी विचारधारा के सख्त विरोधी होने के साथ-साथ, NC नेताओं फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला के करीबी विश्वासपात्र भी थे।

वजीर की मृत्यु पर दुख व्यक्त करते हुए उमर ने कहा कि वह उनसे कुछ दिन पहले ही मिले थे। उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट करते हुए लिखा, “विधान परिषद के पूर्व सदस्य, मेरे सहयोगी सरदार टीएस वजीर के आकस्मिक निधन की भयानक खबर से स्तब्ध हूँ। कुछ दिन पहले ही हम जम्मू में एक साथ बैठे थे, यह पता नहीं था कि मैं उनसे आखिरी बार मिलूँगा।”

वज़ीर को एक बार कुख्यात चोपड़ा हत्याकांड में कुछ समय के लिए जेल में डाल दिया गया था, लेकिन बाद में उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया गया था। वजीर के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस ने उसकी मौत के कारणों की जाँच शुरू कर दी है।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार