बायडेन ने थपथपाई अपनी पीठ, अफगानिस्तान से निकासी को बताया सबसे सफलतम मिशन

01 सितम्बर, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
अफ़ग़ानिस्तान त्रासदी पर अमेरिकी राष्ट्रपति ने एकबार फिर अपनी पीठ थपथपाई है

सोमवार देर रात अमेरिका के आखिरी सैनिक ने काबुल की धरती छोड़ दी। इसी के साथ अफ़ग़ानिस्तान में दो दशक तक चला अमेरिकी अभियान समाप्त हो गया। दो दशक तक चली इस इस जंग में न तो अमेरिका को निर्णायक जीत मिली और न ही सम्मानजनक विदाई।

अफ़ग़ानिस्तान से पलायन के अंतिम दिनों में काबुल एयरपोर्ट पर जिस तरह 13 अमेरिकी सैनिक आतंकी हमले का शिकार बने, वह अमेरिका के ‘महाशक्ति’ होने की खिल्ली ही उड़ाने वाला साबित हुआ। काबुल एयरपोर्ट पर हुए आतंकी हमले के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमेरिकी राष्ट्रपति बायडेन के झुके कंधे अमेरिकी शर्मिंदगी को जाहिर कर रहे थे।

बायडेन के लिए अफ़ग़ानिस्तान से विदाई उनकी दुविधा और अक्षमता का पर्याय बनी। हालाँकि, उन्होंने इसे एक बड़ी सफलता करार दिया है। अमेरिकी सौनिकों की पूर्ण वापसी के बाद मंगलवार को उन्होंने राष्ट्र के नाम सम्बोधन में कहा कि यह युद्ध काफी पहले समाप्त हो जाना चाहिए था।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, “अफ़ग़ानिस्तान में युद्ध अब खत्म हो चुका है। मैं अमेरिका का चौथा राष्ट्रपति था, जो इस सवाल का सामना कर रहा था कि इस युद्ध को कैसे खत्म किया जाएगा? मैंने अमेरिकी लोगों से वायदा किया था कि यह युद्ध खत्म करुँगा और मैंने अपने फैसले का सम्मान किया।”

बायडेन ने कहा:

“अमेरिका ने अफ़ग़ानिस्तान में जो किया उसे भुलाया नहीं जा सकता है। अमेरिका की मौजूदगी में अफ़ग़ानिस्तान में लंबे समय तक शांति रही। अफ़ग़ानिस्तान में बहुत ज्यादा भ्रष्टाचार था। हमारा मिशन कामयाब रहा। हमने दूसरे देशों के राजनयिकों और नागरिकों को भी बाहर निकाला।”

उन्होंने कहा कि अमेरिका ने सवा लाख से ज्यादा लोगों को अफ़ग़ानिस्तान से सुरक्षित निकाला, ऐसा आज तक किसी और देश नहीं किया है। बायडेन ने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान से अमेरिकियों के निकलने की कोई समय सीमा खत्म नहीं हुई है। 31 अगस्त की समय सीमा सैनिकों के लिए थी और जो लोग वहाँ रह गए हैं और आना चाहते हैं, अमेरिका उन्हें वापस लाएगा।

अफ़ग़ानिस्तान में लोगों को निकालने के काम को अभूतपूर्व बताते हुए बायडेन ने कहा कि काबुल से निकलने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। उन्होंने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान से आने के इच्छुक 90% अमेरिकी नागरिकों को निकाल लिया गया गया है। जो लोग रह गए हैं उन्हें भी निकाला जाएगा।

‘राष्ट्रपति गनी के देश छोड़ने से बिगड़े हालात’

अमेरिकी राष्ट्रपति ने अफ़ग़ानिस्तान के हालात बिगड़ने के लिए अफ़ग़ानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि गनी के देश छोड़कर भागने से काबुल में अराजकता फैली और उन्हें अमेरिकी हितों के लिए अफ़ग़ानिस्तान छोड़ना पड़ा।

बायडेन ने कहा, “तालिबान 2001 से ही मजबूत हो रहे थे। तालिबान ने 5,000 कमांडरों को जेल से छुड़ा लिया था। हमारे सामने काबुल छोड़ने के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं था। अब  हम नए तरीके से आगे बढ़ना चाहते हैं। हमारी विदेश नीति देश हित में होनी चाहिए।”

इस्लामिक स्टेट को चेतावनी

देश के नाम अपने सम्बोधन में जो बायडेन ने इस्लामिक स्टेट-ख़ुरासान (IS-K) को चेतावनी भी दी। उन्होंने कहा कि आईएस से निपटना अभी बाकी है। उन्होंने यह भी कहा कि हम यह सुनिश्चित करेंगे कि अफ़ग़ानिस्तान की धरती का इस्तेमाल अमेरिका के हितों के खिलाफ नहीं हो।

उन्होंने कहा, “इस्लामिक स्टेट ख़ुरासान प्रांत (IS-K) को चेतावनी देते हुए कहा कि अभी तक अमेरिका का बदला पूरा नहीं हुआ है। जो लोग अमेरिका को नुकसान पहुँचाना चाहते हैं, हम ऐसे लोगों को ढूँढकर मारेंगे और उन्हें इसकी कीमत चुकानी होगी।”

इससे पहले काबुल एयरपोर्ट पर हुए आतंकी हमले के दोषियों को दंडित करने के लिए अमेरिका ने उसकी आईएस-ख़ुरासान के ठिकानों पर हमले किए थे। काबुल एयरपोर्ट पर हुए धमाके में अमेरिका के 13 सैनिकों की मौत हो गई थी और करीब डेढ़ सौ से अधिक अफगानियों की भी मौत हो गई थी।

बायडेन ने कहा, “हम अफ़ग़ानिस्तान समेत दुनियाभर में आतंक के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ते रहेंगे। मगर अब किसी देश में आर्मी बेस नहीं बनाएँगे। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, “मुझे यकीन है अफ़ग़ानिस्तान से सेना बुलाने का फैसला, सबसे सही, सबसे बुद्धिमानीपूर्ण और सर्वोत्तम है।”

जो बायडेन ने कहा, “हमारे सैनिकों ने दूसरों की सेवा करने के लिए अपनी जिंदगी दाँव पर लगा दी। यह युद्ध का मिशन नहीं था, बल्कि दया का मिशन था। उन अमेरिका ने जो कर दिखाया, इतिहास में कभी किसी ने नहीं किया है। यह फैसला रातों-रात नहीं लिया गया। इसके लिए एक लंबी प्रक्रिया पूरी की गई।”



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार