सार्वजानिक होंगे 9/11 हमले से जुड़े गोपनीय दस्तावेज, अमेरिकी राष्ट्रपति बायडेन ने दिए आदेश

04 सितम्बर, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
बायडेन पर लम्बे समय से इन दस्तावेजों को सार्वजानिक करने का दबाव था

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडेन ने शुक्रवार (4 सितंबर, 2021) को 9/11 आतंकवादी हमलों की जाँच से जुड़े गुप्त दस्तावेज अगले 6 महीनों के भीतर सार्वजनिक करने का आदेश दे दिया। बायडेन 11 सितंबर, 2001 को अल-कायदा द्वारा किए गए आतंकी हमले में मारे गए लगभग 3,000 लोगों में से कुछ के परिवारों के दबाव के बाद यह फैसला लिया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडेन ने 9/11 हमलों से संबधित जाँच दस्तावेज जारी करने वाले एग्जीक्यूटिव ऑर्डर पर दस्तखत कर दिए। बायडेन ने इन हमलों के शिकार पीड़ित परिवारों से वादा किया था कि हमलों के बाद फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI) ने जो जाँच की थी, उससे जुड़े कुछ डॉक्यूमेंट्स जारी किए जाएँगे।

बायडेन ने एक बयान में कहा:

“आज, मैंने न्याय विभाग और अन्य संबंधित एजेंसियों को संघीय जाँच ब्यूरो की 11 सितंबर की आतंकी घटना की जाँच से संबंधित दस्तावेजों को एक बार फिर से चेक करने का निर्देश देने वाले एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए हैं। यह कार्य 6 महीने के भीतर होना चाहिए, इसके बाद उन्हें सार्वजनिक कर दिया जाएगा।”

बायडेन द्वारा शुक्रवार को जारी आदेश में जस्टिस डिपार्टमेंट से कहा गया है कि वो सार्वजनिक किए जाने वाले दस्तावेजों को एक बार फिर देखे लें, ताकि इन्हें सार्वजनिक किया जा सके। अब अटॉर्नी जनरल मैरिक गारलैंड इन दस्तावेजों को देखेंगे और इसके बाद 6 महीने में इन्हें जारी किया जाएगा।

इन दस्तावेजों में 9/11 हमलों की पूरी साजिश से संबंधित जानकारी के अलावा ये भी जानकारी हो सकती है कि अमेरिका ने भविष्य में इस तरह के हमलों से बचने के लिए क्या तैयारियाँ कीं। आदेश में साफ कहा गया है कि उन दस्तावेजों को जारी नहीं किया जाएगा, जिनसे देश की सुरक्षा खतरे में पड़ जाए। जस्टिस डिपार्टमेंट पहले इन्हें देखेगा।

चुनावों में किया था वादा

बायडेन ने कहा, ‘मैंने लोगों से जो वादा किया था, उसे पूरा करने की दिशा में एक कदम उठा रहा हूँ। 11 सितंबर को इन हमलों के 20 साल पूरे हो जाएँगे। 20 साल बाद ही अमेरिकी फौज अफगानिस्तान से वापस आ चुकी है।”

बता दें कि बायडेन ने पिछले वर्ष नवम्बर में हुए अमेरिकी चुनावों में इन दस्तावेजों को सार्वजनिक करने का वादा किया था। बायडेन पर इन दस्तावेजों को जारी करने का दबाव भी था। आतंकी हमले के पीड़ित परिवार लंबे समय से इन दस्तावेजों को सार्वजनिक करने की माँग कर रहे थे।

सरकार का ये फैसला इस हमले के पीड़ित उन परिवारों के लिए मददगार साबित होगा जो सऊदी अरब सरकार के खिलाफ अपने आरोपों की पुष्टि के लिए इन दस्तावेजों की माँग कर रहे हैं।

इसको लेकर पीड़ितों के परिवारों और सरकार के बीच टकराव भी चल रहा था। कुछ ही दिन पहले 9/11 के पीड़ित परिवारों ने व्हाइट हाउस को एक पत्र लिखकर कहा था कि अगर ये दस्तावेज जारी नहीं किए जाते तो बायडेन का 9/11 मेमोरियल पर स्वागत नहीं किया जाएगा।

बता दें कि न्यूयॉर्क में संघीय अदालत में एक मुकदमा काफी समय से लंबित है जिसमें सऊदी अरब की सरकार और उसके अधिकारियों पर घटना से पहले विमान के अपहरणकर्ताओं को मदद उपलब्ध कराने का आरोप लगाते हुए उन्हें जिम्मेदार ठहराने का अनुरोध किया गया है।

दस्तावेजों को सार्वजनिक किए जाने की घोषणा करते हुए बायडेन ने कहा, “हमें अपने इतिहास में अमेरिका पर सबसे भीषण आतंकवादी हमले के दौरान मारे गए 2,977 निर्दोष लोगों के परिवारों और प्रियजनों के दर्द को कभी नहीं भूलना चाहिए।”



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार