तेजस्वी को छल से हराया बिहार चुनाव: लालू यादव ने बेटे को दी चिराग में 'उजाला' ढूँढने की सलाह

03 अगस्त, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
लालू यादव (बाएँ), चिराग पासवान-तेजस्वी यादव (दाएँ)

एक लंबे समय के बाद जेल से बाहर आए बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी प्रमुख लालू यादव एक बयान देकर चर्चा में आ गए हैं। उन्होंने बिहार की सत्ताधारी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके बेटे तेजस्वी यादव और पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (RJD) को छल से बिहार चुनाव में हराया गया।

लंबे समय हिरासत में एवं उसके बाद अस्पताल में भर्ती रहने के बाद आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने प्रेस से वार्तालाप किया। इसमें उन्होंने विभिन्न मुद्दों पर अपनी राय रखी, जिसमें वे केंद्र सरकार से लेकर बिहार राज्य सरकार पर निशाने साधते दिखे।

लालू यादव ने सबसे पहले बिहार के लोक जनशक्ति पार्टी के विषय में चर्चा की, जिसमें उन्होंने रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान को अपनी पार्टी की ओर खींचना चाहा।

लालू ने तेजस्वी और चिराग पासवान के विषय में सवाल पूछने पर कहा कि वे आज भी चिराग को लोजपा का प्रमुख मानते हैं और वे चाहते हैं कि तेजस्वी और चिराग साथ में रहें। लालू ने तेजस्वी और चिराग को साथ आकर गठबंधन कर चुनाव लड़ने की भी सलाह दी।


लालू यादव ने आगे भाजपा और संघ पर निशाना साधते हुए कहा: 

“रामविलास पासवान एक समाजवादी थे एवं उनके लिए असली श्रद्धांजलि उनके मूल्यों और विरासत को आगे बढ़ाना ही होगी। यह तभी संभव है जब चिराग गोलवलकर के विचारों के विरुद्ध इस अस्तित्व की लड़ाई में शामिल हों।

‘बिहार चुनाव में हुई बेईमानी’

गत वर्ष हुए बिहार विधानसभा चुनावों में भाजपा और जेडीयू के गठबंधन ने बहुमत हासिल कर सरकार बनाई थी। इस मामले पर लालू यादव ने कहा कि उनके पुत्र तेजस्वी यादव के साथ सत्ताधारी पार्टियों ने छल किया है। लालू ने कहा:

“हम बिहार में सरकार बनाने ही वाले थे। मैं जेल में था, परंतु मेरे बेटे तेजस्वी यादव ने अकेले उनसे (सत्ताधारी पार्टियों) लड़ाई लड़ी। उन्होंने हमारे साथ छल किया और चुनावों में आरजेडी को 10-15 वोटों से हरवा दिया।”


बता दें कि बिहार चुनाव में आरजेडी और कॉन्ग्रेस समेत कई लेफ्ट पार्टियों जैसे सीपीआई और सीपीआईएम के गठबंधन को कुल 110 सीटें प्राप्त हुई थी वहीं भाजपा-जेडीयू के गठबंधन एनडीए को 125 सीटों से बहुमत प्राप्त हुआ था।

‘पेगासस मामले की हो जाँच’

लालू ने मीडियाकर्मियों से बात करते हुए बताया कि उन्हें पता लगा था कि शरद पवार की तबीयत ठीक नहीं है, इसी कारण वे उनका हालचाल पूछने आए थे, उनके बिना संसद सूनी है। लालू ने यह भी कहा कि शरद और मुलायम सिंह के साथ मिलकर उन्होंने कई मुद्दों पर लड़ाई लड़ी हैं।


लंबे समय से देश में विवादित मुद्दा बने पेगासस स्पाइवेयर मामले पर भी लालू ने जाँच किए जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि जो भी इस मामले में लिप्त हैं, उनके नाम प्रकाशित होने चाहिए एवं मामले के विरुद्ध जाँच की जानी चाहिए।





सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार