कमजोरी की निशानी थी 26/11 के बाद PAK पर एक्शन न लेना: कॉन्ग्रेस नेता ने अपनी किताब में फोड़ा 'बम'

23 नवम्बर, 2021
कॉन्ग्रेस नेता मनीष तिवारी की किताब पर बवाल

कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ लोकसभा सांसद मनीष तिवारी ने अपनी हाल ही में आई पुस्तक ’10 फ्लैश पॉइंट्स 20 इयर्स’ (10 Flash Points, 20 Years) में कई खुलासे किए हैं। इसमें उन्होंने कॉन्ग्रेस सरकार पर ही हमला करते हुए बताया है कि मनमोहन सरकार द्वारा 26/11 आतंकी हमले का जवाब न देना एक कमज़ोरी की निशानी थी।

पंजाब के आनंदपुर साहिब से कॉन्ग्रेस के लोकसभा सांसद मनीष तिवारी सोशल मीडिया पर खासे चर्चा में हैं और इसका कारण है उनकी हाल ही में आई पुस्तक ’10 फ़्लैश पॉइंट्स 20 इयर्स’। इस किताब में कॉन्ग्रेसी सांसद ने अपनी ही पार्टी के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत उनकी सरकार पर निशाना साधा है।

तिवारी ने अपनी किताब में कहा कि मनमोहन सरकार ने वर्ष 2008 मुंबई में हुए 26/11 के हमले के विरुद्ध कार्रवाई न करके अपनी कमजोरी को दर्शाया था। उन्होंने यह भी लिखा कि तत्कालीन मनमोहन सरकार को पाकिस्तान के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करनी चाहिए थी।

तिवारी ने आगे पुस्तक में 26/11 आतंकी हमले की तुलना अमेरिका में हुए 9/11 आतंकी हमले से की और लिखा कि जिस तरह अमेरिका ने उस हमले के बाद आतंकियों पर वार किया था, भारत को भी वैसा ही करना चाहिए था। 

बता दें कि कॉन्ग्रेसी सांसद पहले भी अपनी ही पार्टी पर राजनीतिक हमले कर चुके हैं। पंजाब में राजनीतिक अस्थिरता तो लेकर तिवारी ने कहा था कि पार्टी द्वारा जिसे पंजाब की कमान सौंपी जा रही है उसे उसकी समझ ही नहीं है। तिवारी ने पूर्व CPI नेता कन्हैया कुमार के कॉन्ग्रेस में शामिल होने को लेकर भी सवाल खड़े किए थे।

शहज़ाद पूनावाला ने भी किया ट्ववीट 

अपनी ही पार्टी पर निशाना साधते तिवारी के साथ ही भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शहज़ाद पूनावाला ने किताब की तस्वीर साझा की और मौके का फायदा उठाते हुए कॉन्ग्रेस पर ट्वीट किया और लिखा:

“मनीष तिवारी ने अपनी पुस्तक में UPA सरकार की कमज़ोरी की सही आलोचना की है। एयर चीफ मार्शल फली मेजर पहले भी इस विषय में कह चुके हैं कि 26/11 आतंकी हमले के बाद वायु सेना इसका बदला लेना चाहती थी परंतु कॉन्ग्रेस सरकार ने उन्हें ऐसा करने से रोक लिया। कॉन्ग्रेस 26/11 हमले के बाद पाकिस्तान को बचाने और हिन्दुओं को दोष देने में लगी थी।” 


बता दें कि शहज़ाद पूनावाला जिस बात का ज़िक्र कर रहे हैं, वह एक कथित लेखक अज़ीज़ बर्नी की पुस्तक ‘26/11 RSS की साजिश’ है। इसे 26/11 हमले के बाद लिखा गया था।

इस पुस्तक के विमोचन में कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह तक शामिल हुए थे और इस पुस्तक में 26/11 के हमले को संघ परिवार की साज़िश बताते हुए एक मनगढ़ंत कहानी रची गई थी।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार