IAF के हेलीकॉप्टर क्रैश में 4 लोगों की मृत्यु की पुष्टि, CDS बिपिन रावत को बचाव दल ने भेजा अस्पताल

08 दिसम्बर, 2021
तमिलनाडु के कुन्नूर क्षेत्र में वायुसेना का हेलीकॉप्टर क्षतिग्रस्त, CDS बिपिन रावत भी उसी हेलीकॉप्टर में थे

बुधवार (8 दिसंबर, 2021) दोपहर तमिलनाडु के कुन्नूर मे भारतीय सेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनागस्त हो गया। भारतीय वायुसेना ने इस हादसे की खबर साझा की। इस हेलीकॉप्टर में भारतीय चीफ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत के होने की पुष्टि हुई है।

बताया जा रहा है कि स्थानीय सैन्य अधिकारी घटनास्थल पर पहुँच गए हैं और स्थानीय लोग 80% जले हुए दो शवों को स्थानीय अस्पताल ले गए हैं। कोयंबटूर और सुलूर के बीच हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। सुलूर से इस हेलीकॉप्टर ने उड़ान भरी थी।

वायुसेना ने ट्विटर पर लिखा:

“सीडीएस जनरल बिपिन रावत के साथ एक IAF Mi-17V5 हेलीकॉप्टर, तमिलनाडु के कुन्नूर के पास आज दुर्घटना का शिकार हो गया है। हादसे के कारणों का पता लगाने के लिए जाँच के आदेश दे दिए गए हैं।”

हालाँकि वायुसेना द्वारा अब तक किसी मृत्यु की पुष्टि नहीं की गई है, परन्तु प्रारम्भिक रिपोर्ट्स में 2 मौतों की सूचना आ रही है।

खराब मौसम की वजह से ये हादसा हुआ है। इस हेलिकॉप्टर में चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ़ बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) और उनकी पत्नी सवार थे। बताया जा रहा है कि 3 लोग गंभीर रूप से जख्मी हुए हैं। इन सभी को वेलिंग्टन बेस में इलाज के लिए ले जाया गया है। चौथे शख्स की तलाश जारी है।

आईएएफ का यह हेलिकॉप्टर सीडीएस बिपिन रावत सहित सेना के वरिष्ठ अधिकारियों को लेकर एक लेक्चर के लिए वेलिंग्टन स्टाफ़ कॉलेज जा रहा था। घटनास्थल पर रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। सैन्य मामलों का विभाग स्थानीय प्रशासन के संपर्क में है।

कुन्नूर में दुर्घटनाग्रस्त हुए भारतीय वायुसेना के इस हेलिकॉप्टर में सवार 14 लोगों में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और अन्य अधिकारी शामिल हैं। वायुसेना ने इस हादसे की जाँच बैठा दी है।

Image
CDS रावत के साथ जो लोग हेलीकॉप्टर में सवार थे

अब तक मिली जानकारी के अनुसार, घटनास्थल पर 4 शव बरामद किए गए हैं और CDS बिपिन रावत को बचाव दल अस्पताल ले कर गया है। उनके शरीर के कुछ हिस्से जले होने का भी समाचार सामने आ रहा है। सीडीएस को कुन्नूर पहुँचने के बाद दिल्ली रवाना होना था। लेकिन रस्ते में हेलीकॉप्टर हादसे का शिकार हो गया।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: