बिहार: मिंटू कुरैशी ने गोशाला में आग लगा कर मार डालीं पड़ोसी की 3 गर्भवती गायें

13 सितम्बर, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
राजेश कुमार की गर्भवती गायों को जलाकर मारा, श्रीराम सेना के दबाव के बाद एफआईआर

बिहार की राजधानी पटना से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहाँ राजेश कुमार नामक एक पशुपालन करने वाले व्यक्ति की गोशाला में आग लगाकर उसकी 3 गर्भवती गायों को मार दिया गया। राजेश का कहना है कि उनके पड़ोसी मिंटू कुरैशी ने आपसी वैमनस्य और घृणा के कारण इस अमानवीय घटना को अंजाम दिया। 

पूरा मामला पटना के जक्कनपुर थाना क्षेत्र का है। यह पटना जंक्शन स्टेशन के पीछे का क्षेत्र है।दरअसल क्षेत्र में ही रहने वाले राजेश कुमार गोंड (51) दूध बेचने का कार्य करते हैं। इसके कारण उनके पास एक गोशाला है, जिसमें कुछ गायें रहती हैं। राजेश की गोशाला के समीप मिंटू कुरैशी नामक व्यक्ति का घर था। बता दें कि मिंटू का एक बड़ा परिवार है, जिसमें उनके पास भी कुछ बकरे-बकरियाँ हैं।

मिंटू की कई बार राजेश से गोशाला को लेकर बहस होती रहती थी, जिसमें मिंटू का कहना था कि उनकी गोशाला के कारण क्षेत्र में बहुत गंदगी फैली रहती है। इस मामले पर राजेश और उनके पक्ष के लोगों का कहना था कि क्षेत्र में गंदगी आम लोगों द्वारा कचरा फैलाए जाने के कारण रहती है न कि उनकी गायों और मवेशियों के गोबर इत्यादि के कारण। इसके बाद भी कुरैशी द्वारा मामले को लेकर निरंतर विवाद खड़ा किया जाता था।

कुरैशी ने जला दीं 3 गर्भवती गायें 

पूरे मामले को लेकर हमारी डू-पॉलिटिक्स की टीम ने पटना के श्रीराम सेना के अध्यक्ष यशराज सिंह से बातचीत की। यशराज ने वार्ता के दौरान बताया कि कुछ दिनों पहले राजेश और कुरैशी के लोगों के बीच विवाद हुआ था, जिसमें मिंटू कुरैशी ने धमकी देते हुए कहा था कि या तो राजेश क्षेत्र में गंदगी बंद करें और अपने मवेशियों को संभाले अन्यथा वे इस मामले को लेकर कोई बड़ा कदम उठाएगा।

कुछ दिनों बाद शुक्रवार (10 सितंबर, 2021) को सुबह राजेश को आसपास के लोगों से यह सूचना मिली की उनकी गोशाला में आग लग गई है, जिसे सुनते ही वे अपने मवेशियों को देखने के लिए भागे तो उन्होंने पाया कि उनकी एक ढाई वर्ष की एवं 2, दो-दो वर्ष की गायें आग में जलकर मर चुकी थीं।

यशराज ने हमें यह भी बताया कि राजेश की तीनों गायें गर्भवती भी थीं। साथ ही उनके गोशाला की चौकी, टेबल, दरवाज़ा और चारा भी जला हुआ पाया गया। 




बता दें कि इस पूरे प्रकरण में राजेश को कम से कम ढाई लाख रुपयों की क्षति पहुँची है। राजेश आर्थिक रूप से कुछ अधिक संपन्न नहीं हैं, और इस भारी नुकसान के कारण उनकी आर्थिक स्थिति और कमज़ोर हो गई है।

56 लोगों का परिवार फरार 

राजेश ने कुरैशी पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उन्होंने आपसी वैमनस्य के कारण ही इस कुत्सित घटना को अंजाम दिया होगा। बता दें कि मिंटू कुरैशी का लगभग 56 लोगों का बड़ा परिवार है और बताया जा रहा है कि वारदात के बाद से ही परिवार के चार-पाँच लोगों से अधिक क्षेत्र में दिखाई नहीं दे रहे हैं। 

उनके परिवार में कई बकरे-बकरियों भी हैं, जिनके साथ ही समस्त परिवार फरार हो गया है।आसपास के लोगों का यह भी कहना है कि उन्होंने घटना से कुछ समय पूर्व मिंटू के भतीजे को पेट्रोल लाते देखा था, हालाँकि इस खबर की पुलिस द्वारा पुष्टि नहीं की गई है।


यशराज ने डू-पॉलिटिक्स की टीम से बात करते हुए यह भी बताया कि पहले तो पुलिस मामले को लेकर शिकायत दर्ज करने में आनाकानी कर रही थी, परंतु जब हिंदू संगठनों जैसे यशराज सिंह की श्रीराम सेना कि लोगों ने एकत्रित होकर प्रशासन पर दबाव बनाया तो पुलिस ने 12 सितंबर, 2021 को मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है।

यशराज ने यह भी बताया कि पुलिस ने शिकायत दर्ज कर ली है, परंतु अब तक न तो मिंटू न ही उसके किसी परिवार के सदस्य को पकड़ा जा सका है। 

यह भी पता लगा है कि मिंटू कुरैशी पहले से ही क्षेत्र के हिन्दुओं के प्रति घृणा का भाव रखता है और क्षेत्र में हिंदू-मुस्लिम के नाम पर विवाद कराने एवं उपद्रव फैलाने में इस व्यक्ति की अहम भूमिका रहती है।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार