शायर मुनव्वर राणा की औलाद ने खुद ही रची थी हमले की स्क्रिप्ट: जानिए क्या है मामला

02 जुलाई, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
देर रात यूपी पुलिस ने मुनव्वर राणा के बेटे की तलाश में उनके घर पर छापा मारा

मशहूर शायर मुनव्वर राणा के बेटे पर सोमवार (28 जून, 2021) देर शाम हुए कथित हमले की बात फ़र्ज़ी पाई गई है। मुनव्वर के बेटे तबरेज ने अपने चाचा और चचेरे भाइयों को फंसाने के लिए खुद पर स्क्रिप्टेड हमला करवाया था।

आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद मामले का पर्दाफाश हुआ तो यूपी पुलिस ने तबरेज राणा पर एफआईआर दर्ज कर ली है। बृहस्पतिवार 1 और 2 जुलाई की मध्यरात्रि लगभग 2 बजे के करीब यूपी पुलिस ने मुनव्वर राणा के हुसैनगंज लखनऊ स्थित घर पर उनके बेटे तबरेज राणा की तलाश के छापा मारा, लेकिन वो नहीं मिला।

मुनव्वर राणा की बेटी फौजिया राणा ने यूपी पुलिस पर उन्हें प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। फौजिया राणा ने पुलिस के छापे को बदले की कार्रवाई बताते हुए कहा कि प्रशासन उनसे और उनके अब्बू शायर मुनव्वर राणा से बदला ले रहा है।

फौजिया राणा ने अपने ट्विटर हैंडल से यूपी पुलिस के छापे का वीडियो शेयर किया है, जिसमें वह यूपी पुलिस से बदतमीजी करते हुए तलाशी का विरोध करती दिख रही हैं।


शायर मुनव्वर राणा ने भी कहा कि देर रात बिना सर्च वारंट पुलिस वाले घर मे घुस आए और उन्हें बाहर निकाल दिया। मुनव्वर राणा ने कहा कि बिकरू वाले विकास दुबे की तरह यूपी पुलिस उनकी भी हत्या कर सकती थी। शायर ने यूपी पुलिस पर गुंडागर्दी करने का आरोप लगाया है।

सोमवार को बाइक सवार शूटरों ने चलाई थी तबरेज पर गोलियाँ

बता दें कि सोमवार (28 जून, 2021) को शायर मुनव्वर राणा के बेटे तबरेज राणा पर कथित ‘हमला’ हुआ था। रायबरेली के कोतवाली थाना क्षेत्र में त्रिपुला पेट्रोल पंप के पास बाइक सवार 2-3 अज्ञात हमलावरों ने तबरेज पर गोलियाँ चलाई थी। बदले में तबरेज ने भी हमलावरों पर अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से गोलियाँ दागीं, जिसके बाद हमलावर भाग गए।

यह पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई, जिसके बाद पुलिस शूटरों की पहचान कर उनकी तलाश में जुट गई। इस बीच तबरेज राणा ने अपनी हत्या के प्रयास में अपने चाचा राफे राणा, इस्माइल राणा शकील राणा जमील राणा और चचेरे भाई यासिर राणा के खिलाफ कोतवाली थाने में नामजद एफआईआर लिखवाई थी।

पुलिस ने तबरेज राणा के चाचा और भाइयों को पूछताछ के लिए थाने बुलवाया। इस बीच पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे से शूटरों की पहचान करते हुए रायबरेली से हलीम, सुल्तान, सत्येंद्र तिवारी और शुभम सरकार को गिरफ्तार कर लिया।

तबरेज राणा पर हमला करने वाले शूटरों की गिरफ्तारी के बाद पता चला कि पता चला कि तबरेज राणा ने हमले से पहले रायबरेली के ओम क्लार्क होटल में शूटरों से ढाई घंटे तक मीटिंग की थी, जहाँ ‘स्क्रिप्टेड हमले’ की रूपरेखा तैयार की गई।

पुलिस ने तबरेज राणा के खिलाफ एफआईआर दर्ज करते हुए उसकी तलाश में देर रात मुनव्वर राणा के आवास पर छापा मारा। राणा की गिरफ्तारी कर प्रयास में जुटी यूपी पुलिस जल्द ही इस पूरे मामले का खुलासा कर सकती है।

चाचा की जमीन धोखे से बेचने के बाद बनाया प्लान

मुनव्वर के बेटे का अपने चाचा से यह विवाद राजघाट पर साढ़े आठ बीघा जमीन को लेकर है। इसमें चार बीघा जमीन राफे राणा और इस्माइल राणा की है। बाकी की साढ़े चार बीघा में छः भाइयों का हिस्सा है। पिता की मृत्यु के बाद गलत वरासत हो गई और इस कारण पूरी साढ़े आठ बीघा जमीन छः भाइयों के नाम चढ़ गई। इसका वाद न्यायालय में विचाराधीन है।

फरवरी, 2021 में तबरेज राणा ने चाचा राफे राणा और इस्माइल राणा की जमीन में से 18 बिस्वा जमीन धोखाधड़ी करके 85 लाख में बेच दी। जमीन बिकने की जानकारी होने पर तबरेज राणा के चाचा ने इस पर ऐतराज जताया और 85 लाख रुपए वापस करने का दबाव बनाने लगे। इसके बाद ही तबरेज राणा ने अपने चाचा और चचेरे भाइयों को फसाने के लिए इस फर्जी हमले की प्लानिंग की थी।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार