UP: CM योगी की रैली से पूर्व SP नेताओं को जीप में भर कर ले गई पुलिस, दंगा भड़काने की योजना बनाने का है शक

30 दिसम्बर, 2021 By: DoPolitics स्टाफ़
योगी की रैली से पहले सपा नेताओं को उठा ले गई पुलिस

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में होने वाली मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की एक रैली से पहले समाजवादी पार्टी के ज़िला अध्यक्ष समेत करीब 6 से अधिक लोगों को पुलिस द्वारा हिरासत में ले लिया गया।

पुलिस ने इन लोगों को सुरक्षा की दृष्टि से नज़रबंद किया है क्योंकि सपा कार्यकर्ता कुछ दिनों पहले हुए प्रधानमंत्री मोदी के कानपुर की रैली में अराजकता फैलाने की योजना बनाते पकड़े गए हैं। इस घटना से संबंधित कई वीडियोज़ भी सोशल मीडिया पर वायरल हुई हैं।

उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर जहाँ एक ओर राजनीतिक दल चुनावी रैलियों और जनता को लुभाने में लगे हैं, वहीं उत्तर प्रदेश प्रशासन और पुलिसकर्मी राज्य की सुरक्षा व्यवस्था को चाक-चौबंद रखे हुए हैं।

इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश पुलिस ने बृहस्पतिवार (30 दिसंबर, 2021) को पीलीभीत के सपा कार्यालय से ज़िला अध्यक्ष जगदेव सिंह जग्गा समेत कई सपा नेताओं को हिरासत में ले लिया

दरअसल बृहस्पतिवार को ही पीलीभीत में राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की एक रैली होनी है, जहाँ वे जनता को संबोधित करेंगे। ऐसे में पुलिस ने सुरक्षा की दृष्टि से इन सभी लोगों को केवल रैली के दौरान हिरासत में लिया है।

माना जा रहा है कि पुलिस को शक है कि ये लोग योगी आदित्यनाथ की इस रैली में अराजकता फैला सकते हैं, जैसा कि सपा कार्यकर्ता कुछ दिनों पहले भी कर चुके हैं।

इसी कारण प्रदेश पुलिस सुबह-सुबह ही सपा कार्यालय पहुँच गई और कई कार्यकर्ताओं को उठाकर जीप में भर कर ले गई। साथ ही क्षेत्र के ज़िला पंचायत सदस्य संजय खान को भी पुलिसकर्मी अपने साथ ले गए और इन सभी को एक मीटिंग हॉल में बंद कर दिया गया।

‘अखिलेश से घबरा गई है मोदी-योगी सरकार’

इस मामले में सपा के कुछ नेताओं ने भाजपा सरकार पर घबरा जाने का आरोप लगाते हुए कहा है कि योगी-मोदी सरकार समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव से घबरा रही है, मुख्यमंत्री जी अपना प्रचार करने आए हैं, जिससे उन्हें कोई मतलब नहीं तो फिर उन्हें क्यों रोका जा रहा है?

जहाँ एक ओर इन सपा कार्यकर्ताओं ने इसे पुलिस की गुंडागर्दी बताया है वहीं ये भी कहा जा रहा है कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने यह निर्णय अन्य सपा कार्यकर्ताओं का इतिहास देखते हुए लिया है।


दरअसल मंगलवार (28 दिसंबर, 2021) को प्रधानमंत्री मोदी उत्तर प्रदेश के कानपुर पहुँचे थे जहाँ उन्होंने एक जनसभा को संबोधित करने के साथ-साथ कानपुर मेट्रो का उद्घाटन करते हुए कई योजनाओं का शिलान्यास किया था। इसी मौके पर प्रदेश से कुछ वीडियोज़ सामने आई थीं।

इन वीडियोज़ में कुछ सपा कार्यकर्ता एक गाड़ी पर भाजपा का झंडा और नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगाकर उसे क्षतिग्रस्त करते देखे गए। इसके साथ ही ये लोग बीच सड़क पर कुछ पुतले जलाते भी देखे गए। इसे प्रधानमंत्री की रैली के दौरान दंगा भड़काने की साज़िश की तरह देखते हुए सपा नेता को गिरफ्तार भी किया गया था।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: