राहुल गाँधी कैंडल मार्च और ट्वीट कर के नहीं हरा सकते BJP को: प्रशांत किशोर

11 दिसम्बर, 2021
प्रशांत किशोर बोले मोदी को ट्वीट और कैंडल मार्च से हराना असंभव

देश के सबसे बड़े चुनावी रणनीतिकारों में से एक माने जाने वाले प्रशांत किशोर ने हाल ही में एक साक्षात्कार में कॉन्ग्रेस पर तीखे शब्दों के बाण छोड़े और साथ ही प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा की। किशोर ने कॉन्ग्रेस को गाँधी परिवार से बाहर निकलने की सलाह देते हुए यह भी कहा कि नरेंद्र मोदी और भाजपा को हराना एक बेहद कठिन कार्य है।

वर्ष 2014 में एनडीए के बाद जेडीयू, आम आदमी पार्टी के लिए चुनावी रणनीतिकार रहे और अब ममता की तृणमूल कॉन्ग्रेस से जुड़े प्रशांत किशोर अक्सर चुनावी बयानबाज़ी और विभिन्न राजनीतिक दलों को लेकर अपनी राय सामने रखते रहते हैं।

कुछ दिनों पहले किशोर ने ट्वीट करते हुए कहा था कि कॉन्ग्रेस गत 10 वर्षों में 90% से अधिक चुनाव हारी है। हाल ही में किशोर ने कॉन्ग्रेस को लेकर कई और तंज कसे हैं।


किशोर ने एक मीडिया चैनल से बातचीत के दौरान कहा कि राहुल गाँधी एक ट्वीट करके और कैंडल मार्च करके भाजपा को कभी नहीं हरा सकते। भाजपा एक मज़बूत पार्टी बन चुकी है और नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चल रही इस पार्टी को हराने के लिए बड़ी और मज़बूत रणनीति अपनानी पड़ेगी।

आँकड़ों का हवाला देते हुए किशोर ने यह भी बताया कि कॉन्ग्रेस पार्टी वर्ष 1984 के बाद अकेले चुनाव लड़के अपने दम पर एक भी लोकसभा चुनाव नहीं जीत सकी है और गत 10 वर्षों में कॉन्ग्रेस को लगभग 90 फ़ीसदी चुनावों में हार का मुँह देखना पड़ा है। इस हार की ज़िम्मेदारी कॉन्ग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को अपने सिर पर लेनी चाहिए।

किशोर ने कॉन्ग्रेस पार्टी पर तंज कसते हुए आगे यह भी कहा कि उनकी पार्टी के बिना भी देश में मजबूत विपक्ष बन सकता है। इसके साथ ही उन्होंने सलाह दी कि अगर कॉन्ग्रेसी अपनी पार्टी को बचाना चाहते हैं तो वे गाँधी परिवार से इतर किसी नेता को पार्टी अध्यक्ष बनाएँ।

“भाजपा के चारों ओर घूमेगी दशकों तक राजनीति” 

साक्षात्कार में किशोर ने प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा:

“मोदी की सबसे बड़ी ताकत है कि वे सभी लोगों की सुनते हैं। उन्हें पता है कि आखिर लोगों की ज़रूरत क्या है।”

अपने बयान में आगे किशोर ने यह भी साफ किया कि अगले कुछ दशकों तक भारतीय राजनीति भाजपा के आसपास ही घूमेगी।

बता दें कि प्रशांत किशोर इन दिनों ममता बनर्जी और उनकी पार्टी तृणमूल कॉन्ग्रेस से जुड़े हुए हैं और वे अपने बयानों के माध्यम से ममता बनर्जी को लेकर बिना कॉन्ग्रेस के साथ के थर्ड फ्रंट बनाने जैसी बातों पर ज़ोर देते और इसका समर्थन करते देखे गए हैं।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: