जब राहुल द्रविड़ को सच में आया था गुस्सा और अंग्रेजी में पड़ी थी डाँट: सहवाग ने सुनाई आपबीती

11 अप्रैल, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
सहवाग, द्रविड़, धोनी (फाइल फोटो/साभार: इंडियन एक्सप्रेस)

अपने पूरे क्रिकेट करियर के दौरान ‘मिस्टर कूल’ की छवि के लिए जाने जाने वाले पूर्व भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी राहुल द्रविड़ का एक वीडियो आजकल बेहद लोकप्रिय हो रहा है। दरअसल, ये वीडियो एक विज्ञापन का है, जिसमें 48 वर्षीय राहुल द्रविड़ बीच सड़क पर अपनी कार से क्रिकेट बैट निकालकर बोलते देखे जा सकते हैं कि ‘मैं इंद्रानगर का गुन्डा हूँ’।

इस विज्ञापन के वीडियो में वो कार के शीशे तोड़ रहे हैं और कॉफ़ी फेंकते देखे जा रहे हैं। गौरतलब है कि राहुल द्रविड़ बेंगलुरु के इंद्रानगर में ही रहते हैं। हालाँकि, यह महज एक विज्ञापन है, लेकिन भारत के ही पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी वीरेंद्र सहवाग ने राहुल द्रविड़ के वास्तविक गुस्से को ले कर भी एक खुलासा किया है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, वीरेंद्र सहवाग ने बताया कि उन्होंने राहुल द्रविड़ को वास्तव में भी बहुत गुस्से में देखा हुआ है। सहवाग ने पाकिस्तान में खेले जा रहे एक क्रिकेट मैच का जिक्र करते हुए कहा कि भारत के पाकिस्तान दौरे के दौरान, एमएस धोनी एक गलत शॉट खेलने के कारण आउट हो गए थे और तब द्रविड़ उन पर टूट पड़े थे।

सहवाग ने कहा, “मैंने राहुल द्रविड़ को गुस्से में देखा है। जब हम पाकिस्तान में थे और एमएस धोनी एक नए खिलाड़ी थे, तो उन्होंने एक शॉट खेला और वो प्वाइंट पर कैच आउट होए गए। द्रविड़ एमएस धोनी से बहुत नाराज थे। द्रविड़ ने धोनी से कहा कि तुम ऐसा खेलते हो? तुम्हें तो खेल खत्म करना चाहिए। द्रविड़ ने अंग्रेजी में मुझे भी उस दिन खूब सुनाया और मुझे इसका आधा भी समझ में नहीं आया।”

लेकिन जब एमएस धोनी अगली बार बल्लेबाजी करने आए, तो मैंने देखा कि वह ज्यादा शॉट नहीं मार रहे थे। मैंने जाकर उससे पूछा कि क्या चक्कर है तो उन्होंने कहा कि वह द्रविड़ द्वारा फिर से डाँटना नहीं खाना चाहते। धोनी ने कहा, “मैं चुपचाप गेम खत्म करूँगा और वापस जाऊँगा।”

हाल ही में सामने आए इस विज्ञापन में लोगों ने राहुल द्रविड़ के एक ऐसे गुस्सैल आदमी के रूप में देखा, जैसा कि उन्हें पहले कभी नहीं देखा गया था। सोशल मीडिया पर यह युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय हो रहा है।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार