राजस्थान: जन्माष्टमी पर दिव्यांग पुजारी की पीट-पीटकर बेरहमी से हत्या, कॉन्ग्रेस नेता पर आरोप

01 सितम्बर, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
बस स्टैंड पर जन्माष्टमी के दिन एक मंदिर के पुजारी की दो युवकों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी

राजस्थान स्थित अजमेर के देवली कस्बे के बस स्टैंड पर श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन एक मंदिर के पुजारी की दो युवकों ने पीट-पीट कर बेरहमी से हत्या कर दी। दिनदहाड़े हुई इस हत्या के बाद स्थानीय लोगों में ज़बरदस्त आक्रोश फैल गया। भारी संख्या में ब्राह्मण समाज के लोगों ने पुलिस थाने को घेर लिया और हत्यारों की गिरप्तारी की माँग को लेकर प्रदर्शन करने लगे।

लोगों का आरोप है कि पुजारी की हत्या का आरोपित कॉन्ग्रेस का स्थानीय नेता है, इसलिए सरकार के दबाव में पुलिस उनके खिलाफ कोई भी कार्रवाई करने से कतरा रही है। ब्राह्मण समाज के लोगों के उग्र प्रदर्शन के चलते दबाव में आई पुलिस ने एक आरोपित को हिरासत में ले लिया है, जबकि दूसरा आरोपित अभी भी पुलिस की पकड़ से फरार है।

जानकारी के अनुसार देवली बस स्टैंड (Deoli Bus Stand) पर स्थित नीलकंठ मंदिर में शारीरिक रूप से दिव्यांग पुजारी गोपाल पाराशर (Gopal Parashar) पुत्र स्व मदन पाराशर, उम्र 55 वर्ष पूजा-अर्चना का कार्य करते थे। उन्होंने बस स्टैंड पर ठेले पर चाय की दुकान लगाने वाले मोंटू साहू से एक मास्क खरीदा था।

अगले दिन खराब मास्क देने की शिकायत करने वो मोंटू साहू की दुकान पर गए। इस बीच मास्क बदलने को लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया। विवाद होने पर मोंटू और उसके भाई शिवराज साहू गोपाल पाराशर के साथ गाली-गलौज करते हुए उन्हें सड़क पर ही पीटने लगे। पिटाई से बुरी तरह घायल मन्दिर के पुजारी गोपाल पाराशर की कुछ ही देर में दर्दनाक मौत हो गई।

हत्या के विरोध में प्रदर्शन करते ब्राह्मण समुदाय के लोग

मन्दिर के पुजारी की हत्या की खबर जैसे ही फैली माहौल तनावपूर्ण हो हुआ। देवली सहित आसपास के क्षेत्र के पाराशर समाज के लोगों ने थाने के बाहर इकट्ठे होकर जमकर प्रदर्शन किया और आरोपियों को सख्त से सख्त सजा दिलाने की माँग की है।

थाने के घेराव की जानकारी मिलते ही सीओ दीपक कुमार थाने पहुँ च गए और आक्रोशित ब्राह्मण समुदाय के लोगों को समझाने की कोशिश की। पाराशर समाज के लोगों ने कहा है कि पुलिस दबाव के कारण कार्रवाई नहीं कर रही है क्योंकि आरोपित कॉन्ग्रेस का नेता है।

एसडीएम ने कार्रवाई के निर्देश दिए

पाराशर समाज के लोगों ने चेतावनी दी है कि अगर शीघ्र ही आरोपितों को गिरफ्तार करके सजा नहीं दी गई तो वे उग्र आंदोलन करेंगे। एसडीएम भारत भूषण गोयल ने भी मामले की गंभीरता को समझते हुए थाना पुलिस को तुरंत प्रभाव से आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

पाराशर समाज के लोगों ने खुलेआम चेतावनी दी है कि अगर आरोपितों को गिरफ्तार करके सख्त सजा नहीं दी गई, तो मृतक गोपाल पाराशर का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा। एसडीएम भूषण गोयल ने बताया कि परिजनों की माँगों को लेकर उचित आश्वासन दिया गया है।

उन्होंने बताया कि परिजनों की 50 लाख रुपए की सहायता की माँग और आश्रित को सरकारी नौकरी देने का प्रस्ताव बनाकर सरकार को भेजने पर सहमति बन गई है। दोपहर को शव का पोस्टमार्टम कर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया।

डीएसपी कुमार मीणा ने बताया कि दोनों आरोपित भाइयों के खिलाफ सोमवार रात को ही गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया था। उन्होंने बताया कि आगे की जाँच की जा रही है और जाँच में जिस तरह का मामला सामने आएगा, उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार