काश केंद्र में BJP होती: RSS कार्यकर्ता की हत्या पर BJP IT सेल प्रमुख ने 'असहिष्णुता गैंग' को किया 'एक्सपोज' तो मिले ये जवाब

30 नवम्बर, 2021
केरल में आरएसएस कार्यकर्ता संजीत के हत्यारों के समर्थन में निकला जुलूस

सोशल मीडिया के इस दौर में ‘आईटी सेल’ शब्द खुद में बहुत बदनाम है। वैसे तो सभी राजनीतिक दलों के आईटीसेल होते हैं, लेकिन अगर सबसे ज्यादा चर्चा में रहती है भाजपा आईटी सेल।

अगर आप सोच रहे हैं कि आज हम भाजपा आईटी सेल का जिक्र क्यों कर रहे हैं तो इसकी वजह है आईटी सेल से सबसे ज्यादा चर्चा में रहने वाले आईटीसेल के हेड अमित मालवीय। दरअसल, भाजपा आईटीसेल प्रमुख अमित मालवीय ने मंगलवार (30 नवंबर, 2021) के दिन एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या का जश्न मनाते SDPI कार्यकर्ता नज़र आ रहे हैं।

अमित मालवीय अपने ट्वीट में लिखते हैं, “एसडीपीआई कार्यकर्ताओं ने 15 नवंबर की शाम को केरल के कोझीकोड में आरएसएस कार्यकर्ता संजीत के हत्यारों की जय-जयकार करते हुए एक उत्सव मार्च निकाला। इस वीडियो में ‘आरएसएस कार्यकर्ता की पसली तोड़ने वालों को 1000 अस्सलाम’ और इससे भी भयानक नारे लग रहे हैं।”

अपने इस ट्वीट के साथ भाजपा आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय ने लिखा कि ‘असहिष्णुता बढ़ रही है वाली ब्रिगेड कहाँ है?’

मालवीय के इस ट्वीट के बाद लोगों ने मालवीय पर कार्यकर्ताओं और समर्थकों की लाशों से सहानुभूति बटोरने का इल्जाम लगाते हुए पूछना शुरू कर दिया कि भाजपा क्या कर रही है।

अमित मालवीय के ट्वीट के जवाब में अमरेंद्र सिंह ने लिखा, “अरे अमित चाचा, थोड़ी शर्म कर लिया करो। गृह मंत्रालाय तुम्हारा है लेकिन कहने को शेर है। बन्द क्यों नहीं कर पा रहे ये सब। दिल्ली मैं तुम्हारी नाक के नीचे भी यही सब हुआ कुछ नहीं कर पाए बस शेयर कर दो हो गया कर्तव्य पूरा।”

एक अन्य यूज़र ने लिखा, “अबे बेशर्म आदमी कभी ट्विटर से बाहर निकल कर भी कुछ कर लिया कर। दिन भर ट्विटर-ट्विटर खेलता रहता है। देश ट्विटर पर नहीं चलता, ट्विटर से ही देश चलाना है तो तुम्हें वोट गोलगप्पे बनाने के लिए दिए हैं क्या? पोजीशन में बैठकर खेलता रहना फेसबुक-इंस्टाग्राम।”

मणिशंकर सिंह लिखते हैं, “बीजेपी की केंद्र सरकार ने बंगाल के लिए क्या किया? कृपया बकवास करने के बजाय कार्रवाई करें।”

एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि काश केंद्र में भाजपा की सरकार होती।

दुबई राज लिखते हैं कि ‘दुर्भाग्य से भाजपा सत्ता में तो है, लेकिन पॉवर में नहीं’। वहीं, एक अन्य ट्विटर यूजर ने लिखा,

“कितने द्दर्जन चूड़ियाँ भिजवाएँ BJP के अव्वल दर्जे के चिड़ीमार नेतृत्व के लिए? भारतीय शास्त्र कानून में सुधार लाओ और फिर देखो, इन जिहादियों की गत क्या होती है।”

बता दें कि 15 नवम्बर को केरल (Kerala) के पलक्कड़ (Pallakad) में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के कार्यकर्ता संजीत की उनकी पत्नी के सामने चाकुओं से गोद कर हत्या कर दी गई थी। भाजपा ने हत्या का आरोप SDPI पर लगाया था।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:


You might also enjoy