तालिबानी आतंक: अफगान रेडियो स्टेशन मैनेजर की हत्या, पत्रकार का अपहरण, 730 कैदी किए रिहा

09 अगस्त, 2021
तालिबान ने की रेडियो स्टेशन मैनेजर की हत्या

अफ़ग़ानिस्तान में बसे इस्लामी आतंकवादी गिरोह तालिबान के आतंकियों ने अफ़ग़ान रेडियो स्टेशन के एक मैनेजर की हत्या कर दी एवं एक अन्य पत्रकार का अपहरण कर लिया। सरकारी अधिकारियों पर हमले और हत्याओं के बाद तालिबान अब पत्रकारों और मीडिया समूह को शिकार बना रहा है।

अमेरिकी फौजों के अफ़ग़ानिस्तान से निकलने के साथ ही इस्लामी आतंकी गिरोह तालिबान ने देश के विभिन्न हिस्सों में पुनः उपद्रव मचाना प्रारंभ कर दिया है। तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तानी सीमा से लगे सभी देशों के आसपास के क्षेत्रों पर कब्ज़ा जमा लिया है एवं देश के नागरिकों की चिन्हित कर हत्या कर रहा है।

तालिबानी आतंकियों ने रविवार (8 अगस्त, 2021) को ‘पकतिया घाग’ (Paktia Ghag Radio) नाम के रेडियो स्टेशन के मैनेजर तूफ़ान ओमर की हत्या कर दी। रिपोर्ट के मुताबिक तूफान को एक अज्ञात बंदूकधारी द्वारा गोली मार दी गई।

एनआईए के प्रमुख मुजीब खेलवटगर ने कहा:

“ओमार को अज्ञात बंदूकधारियों ने मार दिया, वह एक लिबरल विचारों वाला व्यक्ति था। हमें (मीडिया को) स्वतंत्र रूप से काम करने के लिए टारगेट किया जा रहा है।” 

अफ़ग़ानिस्तान के रेडियो स्टेशन ने कुछ समय पूर्व इस मामले में रिपोर्टिंग की थी और बताया था कि तालिबान समेत अफ़ग़ानिस्तान के कई आतंकी समूहों द्वारा अब तक लगभग 30 से अधिक पत्रकारों एवं मीडियाकर्मियों को मार दिया गया है।

पत्रकार का किया अपहरण 

इसके साथ ही एक अन्य वारदात में तालिबान ने रविवार को ही दक्षिणी हेलमंड प्रांत से नेमतुल्लाह हेमत नमक एक स्थानीय पत्रकार को उसके लश्करगाह स्थित घर से अगवा कर लिया। हेमत ‘घरगश्त टीवी’ नामक एक चैनल के लिए कार्य करता था। इस चैनल के प्रमुख रज़वान मिखाइल ने कहा: 

“तालिबान हेमत को कहाँ ले गया है, इसका कोई सुराग नहीं मिला है। हम फिलहाल दहशत की स्थिति में हैं।” 

तालिबान के प्रवक्ता ने हर बार की तरह इस मामले से भी पल्ला झाड़ लिया है और उन्होंने कहा है कि उन्हें मारे गए एवं अपहरण किए गए पत्रकार के विषय में कोई जानकारी नहीं है।

अफ़ग़ान न्यूज़ संस्था ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडेन को विषय के बारे में सूचित करते हुए लिखा। उन्होंने बायडेन से अफ़ग़ान पत्रकारों और सहयोगी कर्मचारियों को विशेष वीज़ा देने का आग्रह भी किया है।

तालिबान ने जेल से रिहा किए 730 कैदी

सोमवार को तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान के जावजान प्रांत की राजधानी शेबरघन शहर पर कब्जा कर लिया है। शेबरघन शहर पर अधिकार करने के तुरंत बाद, तालिबान ने जेल से 700 पुरुषों और 30 महिला कैदियों को रिहा कर दिया।

पहले भी हुए हैं हमले 

बता दें यह कोई पहला मौका नहीं है जब तालिबान ने निर्दोष लोगों की हत्या की है। कुछ समय पहले भारत के एक पत्रकार दानिश सिद्दीकी को भी तालिबानी आतंकियों ने मार गिराया था। इसके साथ ही कुछ समय पहले अफ़ग़ानिस्तान के मशहूर कॉमेडियन नज़र मोहम्मद को भी इस आतंकी संगठन द्वारा मार दिया गया था।

तालिबान चिन्हित कर अफ़ग़ानिस्तान के सरकारी अफसरों एवं पूर्व सरकारी अफसरों को भी अपना निशाना बना रहा है और देश में अराजकता पैदा कर रहा है। ऐसा माना जा रहा है कि अफ़ग़ानिस्तान पर पुनः इस आतंकी संगठन का शासन स्थापित हो जाएगा।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: