तमिलनाडु: गणेश चतुर्थी पर विवादित बयान देने वाला पादरी गिरफ्तार

03 सितम्बर, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
पादरी ने गणेश चतुर्थी के सम्बन्ध में भड़काऊ बयान दिए थे

कोयंबटूर के सेंट पॉल कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड साइंस के एक पादरी को गुरुवार (2 सितंबर, 2021) को सम्प्रदायिक तनाव पैदा करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। हिन्दू संगठन की शिकायत के बाद ये गिरफ्तारी हुई। पादरी ने गणेश चतुर्थी को लेकर विवादित बयान दिया था।

जानकारी के अनुसार कोयंबटूर के सेंट पॉल कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड साइंस के अध्यक्ष और पादरी वी डेविड ने विनायक चतुर्थी के जुलूस के संदर्भ में भड़काने वाली टिप्पणी की थी। पादरी ने कथित रूप से विनायक चतुर्दशी पर निकलने वाली यात्राओं के जवाब में ईसाई समूहों को प्रार्थना जुलूस निकालने के लिए उकसाने का प्रयास किया था।

हिन्दू संगठन ‘हिंदू मुन्नानी’ ने पादरी के खिलाफ यह कहते हुए शिकायत दर्ज कराई थी कि वह दो समुदायों के बीच साम्प्रदायिक तनाव फैलाने का प्रयास कर रहा है। शिकायत के आधार पर पादरी को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया। उसे आईपीसी की विभिन्न धाराओं और धार्मिक भावनाएँ आहत करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया।

गिरफ्तारी के बाद पादरी को कोर्ट में पेश किया गया, जहाँ से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में केंद्रीय जेल भेज दिया गया। बता दें कि ‘हिंदू मुन्नानी’ हिंदू धर्म की रक्षा और हिंदू धार्मिक स्मारकों की रक्षा के लिए गठित तमिलनाडु स्थित एक धार्मिक और सांस्कृतिक संगठन है।

इस बीच, हिंदू मुन्नानी तमिलनाडु के अध्यक्ष कदेश्वर सुब्रमण्यम ने कहा कि विनायक चतुर्थी इस बार भी हमेशा की तरह ही मनाई जाएगी। हिन्दू संगठन ने कोरोना का हवाला देकर विनायक चतुर्थी के सार्वजनिक समारोहों पर प्रतिबंध लगाने के राज्य सरकार के फैसले की भी निंदा की।

प्रतिबन्धों के विरोध में मुन्नानी कार्यकर्ताओं ने तिरुपुर और कोयंबटूर जिलों में 200 से अधिक स्थानों पर मंदिरों के सामने पूजा-अर्चना की। सुब्रमण्यम ने तिरुपुर में कहा कि मुन्नानी कार्यकर्ताओं ने आज पूरे तमिलनाडु में मंदिरों के सामने पूजा का आयोजन किया और त्योहार के आयोजन के लिए आशीर्वाद माँगा।

उन्होंने माँग की है कि सरकार को तुरंत मुन्नानी से बात करनी चाहिए और प्रतिबंधों को वापस लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि संगठन इस फैसले का विरोध कर रहा है और करता रहेगा। उन्होंने बताया कि संगठन की आगे की कार्रवाई कुछ दिनों में तय की जाएगी।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार