मारा गया बिहार के 2 श्रमिकों की हत्या में आतंकियों का मददगार जावेद, दुकानदार को मारने का मिला था जिम्मा

28 अक्टूबर, 2021
दुकानदार को मारने जा रहा आतंकी जावेद मुठभेड़ में ढेर

जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में बृहस्पतिवार (28 अक्टूबर, 2021) को हुई मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया। पुलिस द्वारा यह जानकारी दी। एक पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि बारामूला जिले के चेरदारी में आतंकवादियों ने सेना और पुलिस के गश्ती दल पर गोलीबारी की थी।

मारे गए हायब्रिड आतंकी जावेद वानी (Javed Ah Wani) को बारामुला में एक दुकानदार को निशाना बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। पुलिस को जैसे ही इस बात का पता चला सेना और पुलिस का संयुक्त दल समय से पहले ही वहाँ पहुंच गया।

सुरक्षाबलों को अपने सामने देख आतंकी वानी ने उन पर गोलियाँ बरसाना शुरू कर दिया और सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई की, जिसमें आतंकी जावेद वानी की मौत हो गई।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि उसके पास से एक पिस्तौल, मैगजीन और एक पाकिस्तान निर्मित हथगोला मिला। कश्मीर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा कि मारा गया आतंकवादी एक ‘हाइब्रिड टाइप’ था और उसकी पहचान कुलगाम जिले के जावेद आह वानी (Javed Ah Wani) के रूप में हुई।

आईजीपी ने कहा, “उसने (जावेद वानी) इस महीने की शुरुआत में वानपोह में बिहार के दो मजदूरों की हत्या में आतंकवादी गुलजार (जो कि 20 अक्टूबर को मारा गया था) की मदद की थी।”

गौरतलब है कि गत 17 अक्टूबर को आतंकवादियों ने कुलगाम के वानपोह इलाके में श्रमिकों की बस्ती पर हमला बोला था। इस हमले में भी जावेद वानी ने आतंकियों की मदद की थी।

आतंकियों की इस अंधाधुंध फायरिंग में बिहार के दो श्रमिकों- राजा रेशी देव, जोगिंदर रेशी देव की मौत हो गई, जबकि बिहार का एक अन्य श्रमिक चुनचुन रेशी देव घायल हो गया।

इस हमले में गोलियाँ चलाने वाला गुलजार अहमद गत 20 अक्टूबर को सुरक्षाबलों द्वारा मार गिराया गया। जावेद उसकी मौत के बाद से ही इधर-उधर छिपता फिर रहा था।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार