काबुल: गरीबी, बेरोजगारी कवर कर रहे अफगान रिपोर्टर जियार खान को तालिबानियों ने पीटा

26 अगस्त, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
TOLO news रिपोर्टर, कैमरामैन को तालिबान ने काबुल में पीटा

समाचार एजेंसी द्वारा दावा किया गया कि अफगानिस्तान के पहले स्वतंत्र समाचार चैनल ‘टोलो न्यूज’ (TOLO न्यूज़) के एक रिपोर्टर की राजधानी काबुल में तालिबानी आतंकियों ने ‘हत्या कर’ दी।

बताया गया कि रिपोर्टर ज़ियार याद खान (Ziar Yaad Khan) और उनके कैमरामैन को तालिबान ने काबुल के हाजी याकूब चौराहे पर गरीबी, बेरोजगारी पर रिपोर्टिंग करते हुए पीटा था।

हालाँकि, खुद ज़ियार खान ने अपनी मौत की ख़बरों का खंडन किया है। अपने साथ हुई मारपीट का जिक्र खुद ज़ियार याद खान के ट्विटर अकाउंट से बृहस्पतिवार (26 अगस्त, 2021) की सुबह किया गया। उनके अकाउंट से किए गए ट्वीट में लिखा है:

“रिपोर्टिंग के दौरान काबुल स्थित न्यू सिटी में तालिबान ने मुझे पीटा। कैमरा, उपकरण और मेरा निजी मोबाइल फोन भी हाईजैक कर लिया गया। कुछ लोगों ने मेरी मौत की खबर फैला दी, जो झूठी है। तालिबान ने मुझे बंदूक दिखाकर पीटा।”

“मुझे अभी भी नहीं पता कि उन्होंने ऐसा व्यवहार क्यों किया और अचानक मुझ पर हमला कर दिया। इस मुद्दे को तालिबान नेताओं के साथ साझा किया गया है; हालाँकि, अपराधियों को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है, जो अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए एक गंभीर खतरा है।”

इससे पूर्व तालिबान भारतीय पत्रकार एवं समाचार एजेंसी रॉयटर्स के फोटोग्राफर दानिश सिद्दीकी की भी क्रूर हत्या कर चुका है। दानिश सिद्दीकी की बर्बर हत्या के बाद उसके शरीर को न केवल बेरहमी से घसीटा गया, बल्कि एक भारी वाहन से उसे कुचल दिया गया।

यही नहीं, CNN के पत्रकारों ने भी हाल ही में खुलासा किया था कि किस तरह से वो तालिबान की गोलियों का शिकार होते बाल-बाल बचे थे।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने बुधवार को कहा कि कम से कम 1,500 अमेरिकी नागरिकों को अभी भी अफगानिस्तान से निकालने की जरुरत है और तालिबान ने अमेरिकी सैनिकों के 31 अगस्त को देश छोड़ने के बाद कुछ प्रस्थान की अनुमति देने का वादा किया है।

ब्लिंकन ने संवाददाताओं से कहा कि अफगानिस्तान छोड़ने की इच्छा रखने वाले 6,000 अमेरिकियों में से कम से कम 4,500 अमेरिकी नागरिक चले गए हैं। उन्होंने कहा कि अधिकारी अन्य 500 अमेरिकियों के साथ सीधे संपर्क में हैं और उन्हें एअरपोर्ट पर सुरक्षित रूप से पहुँचाने के इंतजाम किए जा रहे हैं।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार