ठाकुरों की औरतों को घरों से खींच बाहर निकालो और काम कराओ: शिवराज सरकार के मंत्री बिसाहूलाल

27 नवम्बर, 2021
मध्य प्रदेश के मंत्री बिसाहूलाल सिंह इससे पहले भगवान श्रीराम की माँ को भी अपमानित कर चुके हैं

मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह सरकार में खाद्य आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह एक बार फिर विवादित बयान को लेकर चर्चा में हैं। बिसाहूलाल सिंह ने अपने एक ताजा बयान में कहा है कि समाज में समानता लानी है तो ठाकुरों के घर से उनकी महिलाओं को खींचकर काम के लिए बाहर निकालना होगा।

वीडियो वायरल होने पर मंत्री ने सफाई दी है, लेकिन कॉन्ग्रेस भाजपा पर हमलावर हो गई है।

बता दें कि बिसाहूलाल सिंह ने वर्ष 2020 में कॉन्ग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थामा था। इसके बाद से उनके कई विवादित बयान सामने आए हैं। शहडोल में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बिसाहूलाल सिंह ने यह विवादित बयान दिया जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।

वायरल वीडियो में बिसाहूलाल सिंह समाज में समानता लाने के लिए लोगों से अपील कर रहे हैं कि बड़े-बड़े ठाकुरों के घर से महिलाओं को काम के लिए खींचकर बाहर निकालें, तभी समाज में समानता आएगी। इसके बाद कॉन्ग्रेस आगबबूला होकर शिवराज सरकार पर हमलावर है।

कार्यक्रम में बिसाहूलाल सिंह ने लोगों से कहा, “ये लोग अपने घर की महिलाओं को लाकर कोठरी में बंद कर दते हैं। आँगन लिपने और धान काटने का काम दूसरी महिलाएँ करती हैं। इससे समाज में समानता कैसे आएगी। हम यहाँ भाषण देंगे और करेंगे कुछ नहीं, तो महिलाएँ कैसे आगे बढ़ेंगी।”

सिंह ने वहाँ मौजूद लोगों को भड़काते हुए कहते हैं, “आप बड़े-बड़े ठाकुर महिलाओं को घर से खींचकर लाओ और उनसे काम करवाओ।”

इसके बाद कॉन्ग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट कर कहा है कि लगता है कि बीजेपी ने राजपूत समाज, सिंधी समाज, ब्राह्मण बनिया समाज के रोज अपमान का काम शुरू कर दिया है।

कॉन्ग्रेस उम्मीदवार की पत्नी को कहा था ‘रखैल’, श्रीराम की माता को भी नहीं बख्शा था

वर्ष 2020 से पहले तक बिसाहूलाल सिंह कॉन्ग्रेस पार्टी में थे। वरिष्ठ विधायक होने के बावजूद कॉन्ग्रेस ने उन्हें मंत्री नहीं बनाया तो उन्होंने भाजपा जॉइन कर ली और उपचुनाव जीतकर भाजपा सरकार में मंत्री बन गए।

उपचुनाव के दौरान ही उन्होंने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार विश्वनाथ सिंह के खिलाफ बयान दिया था। बिसाहूलाल सिंह ने कहा था कि उन्होंने अपनी दूसरी पत्नी की जानकारी छिपाई है और वह उनकी ‘रखैल’ है। यह वीडियो जमकर वायरल हुआ था। आलोचना होने पर अपनी टिप्पणी की सफाई देने के चक्कर में उन्होंने भगवान श्रीराम की माँ पर भी अवांछित टिप्पणी कर दी थी।

सिंह ने कहा था,

“कॉन्ग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ कुंजाम की एक से अधिक पत्नी हैं तो उसे बताना चाहिए। ऐसा करने से किसी मर्यादा का उल्लंघन नहीं होता है। अगर दूसरी कहीं और है तो बताना चाहिए। राजा दशरथ के तीन पत्नियाँ कौशल्या, कैकेई, सुमित्रा थीं, वो तो छिपाते नहीं थे। इसमें कौन सी मर्यादा का उल्लंघन हो जाता है।”

इस मामले में अनूपपुर रिटर्निंग अफसर की रिपोर्ट पर उनके विरुद्ध एफआईआर भी दर्ज हुई थी। बिसाहूलाल के इस बयान पर कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता केके मिश्रा ने आरोप लगाया है कि उन्होंने माँ की गालियों सहित श्रीराम की माता- कौशल्या, कैकई, सुमित्रा को अपमानित किया है।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार