मुस्लिम कंट्रोल से बाहर हुए तो तुम्हें कहीं पनाह नहीं मिलेगी: 'पैदाइशी लड़ाकू' मौलाना का भड़काऊ भाषण

08 जनवरी, 2022 By: DoPolitics स्टाफ़
बरेली में तौकीर मियाँ ने मुस्लिम सभा को संबोधित करते हुए कई विवादित बयान दिए

पश्चिम उत्तर प्रदेश के बरेली से मुस्लिम समुदाय के एक सम्मेलन का वीडियो सामने आया है। इसमें एक कट्टरपंथी मौलाना हज़ारों की भीड़ को संबोधित करता देखा जा सकता है। इस दौरान कई विवादित टिप्पणियाँ भी की गईं। इस व्यक्ति ने कहा कि अगर मुस्लिम नौजवान कानून अपने हाथ में लेंगे तो तुम्हें (हिंदुओं को) हिंदुस्तान में कहीं पनाह नहीं मिलेगी।

उत्तर प्रदेश में चुनाव नज़दीक हैं और इसी के चलते राज्य में मजहबी कट्टरपंथियों द्वारा सांप्रदायिकता को हवा दी जा रही है। इसी सिलसिले में शुक्रवार (7 जनवरी, 2022) को पश्चिम उत्तर प्रदेश के बरेली में मुस्लिम समुदाय द्वारा एक बड़े सम्मेलन का आयोजन किया गया।

इसमें एक मुस्लिम मौलाना ने भीड़ को संबोधित करने के दौरान कई विवादित बयान दिए। मौलाना की पहचान आईएमसी प्रमुख तौकीर रजा खाँ के रूप में हुई है। गौरतलब है कि बरेली में ही पिछले दिनों मुस्लिम धर्म संसद में लिए गए फैसले के बाद आईएमसी प्रमुख मौलाना तौकीर रजा ने 20,000 मुसलमानों के साथ शहादत देने का ऐलान किया था। उसी सिलसिले में शुक्रवार को हजारों मुसलमान इस्लामिया मैदान पर एकत्र हुए।

रैली को संबोधित करते हुए मौलाना ने कहा कि देश में मुस्लिम समुदाय के लोगों पर अत्याचार होते हैं। उनकी बहन-बेटियों को बरगलाने के लिए कहा जाता है, कुरान और नबी का अपमान होता है तो वे खून के घूँट पीते हैं, परंतु अब उनके सब्र का पैमाना टूट चुका है।

आगे मौलाना ने कहा:

“लड़ाई तो हमारे खून में है, हम पैदाइशी लड़ाकू हैं।”

मौलाना ने अपने बयान में सत्ता पर भी निशाना साधते हुए कहा कि बेईमान हुकूमत अपने आतंकवादियों को भेज दे।  योगी अपनी पुलिस को भेज दें वे पीछे नहीं हटेंगे। साथ ही यह धमकी भी दी गई कि अगर मुस्लिम समुदाय पर कोई कार्रवाई हुई तो अगले जुमे को भी इसी प्रकार हज़ारों की भीड़ बरेली में इकट्ठा होगी।


“कानून हाथ में लिया तो कहीं पनाह नहीं मिलेगी”

आगे मौलाना तौकीर ने मुस्लिम भीड़ को संबोधित करते हुए हिंदू समुदाय के लिए आपत्तिजनक टिप्पणी की, जिसमें उन्होंने कहा:

“जिस दिन मेरा नौजवान मेरे कंट्रोल से बाहर हो गया। मैं हिंदू भाइयों से खास तौर पर कह रहा हूँ कि मुझे उस वक्त से डर लगता है जिस दिन मेरा यह नौजवान कानून अपने हाथ में ले लेगा, उस दिन तुम्हें (हिंदुओं को) हिंदुस्तान में कहीं पनाह नहीं मिलेगी।”


तौकीर मियाँ ने आगे यह भी कहा कि वे मुल्क में अमन और चैन चाहते हैं परंतु अब उनके सब्र का पैमाना टूट चुका है। वे अपने देश से प्यार करने वाले हैं और तुम्हारी (हिंदुओं की) तरह दगाबाज़ और बेईमान नहीं हैं।

बता दें कि इस रैली के सम्मेलन के लिए मौलाना तौकीर ने प्रशासन से केवल 300 लोगों की अनुमति ली थी परंतु इस रैली में हज़ारों लोगों की भीड़ पहुँची। रैली में कोरोना नियमावली को भी ताक पर रखते हुए सभी प्रोटोकॉल तोड़े गए और लोगों ने मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने को भी आवश्यक नहीं समझा।

सम्मेलन की अनुमति और बयानबाज़ी को लेकर एसएसपी रोहित सिंह सजवान ने कहा:

“मौलाना तौकीर की सभा को लेकर किसी ने कोई शिकायत नहीं की है। उनके बयानों और सभा स्थल की भीड़, अनुमति की शर्तों के उल्लंघन के मामले में जाँच कराई जा रही है। जाँच रिपोर्ट मिलने के बाद कार्रवाई होगी।”

यह कोई पहला मौका नहीं है जब उत्तर प्रदेश चुनावों में इस प्रकार की सांप्रदायिक बयानबाज़ी हुई हो। कुछ समय पूर्व AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भी एक रैली के दौरान प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी का नाम लेते हुए विवादित टिप्पणी की थी।

अपनी टिप्पणी में ओवैसी ने देश की पुलिस और बहुसंख्यक आबादी को धमकाते हुए कहा था कि योगी और मोदी हमेशा नहीं रहेंगे। जब ये लोग चले जाएँगे तो उन्हें कौन बचाएगा? देश का मुस्लिम समुदाय कुछ नहीं भूलेगा।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:


You might also enjoy

आत्मघात में निवेश