मुझ पर मुक़दमा चला तो मैं जान दे दूँगा: 11 वैक्सीन लगवाने वाले 'चचा' ने PM मोदी से की हस्तक्षेप की माँग

12 जनवरी, 2022 By: DoPolitics स्टाफ़
जिले के रिटायर्ड पोस्टमास्टर ब्रह्मदेव मंडल उर्फ 'वैक्सीन वाले चचा'

कोरोना वायरस के खिलाफ 11 बार वैक्सीन ले कर चर्चा में आए बिहार के ‘वैक्सीन वाले चचा’ का एक और बयान सामने आया है। 84 वर्षीय व्यक्ति का कहना है कि अगर उनके खिलाफ मुकदमा चलाया गया तो वो अपनी जान दे देंगे।

बिहार पुलिस ने मधेपुरा जिले के पुरैनी क्षेत्र के निवासी 84 वर्षीय ब्रह्मदेव मंडल के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इनका अपराध ये था कि उन्होंने कोविड​​-19 वैक्सीन की 11 खुराक ली थी। इसके बाद रैनी के थाना प्रभारी ने प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल (PHC) पुरैनी ने ब्रह्मदेव मंडल के खिलाफ शिकायत दर्ज की थी।

मंडल पर 11 वैक्सीन लेने के लिए अलग-अलग आईडी कार्ड का उपयोग करने के लिए मामला दर्ज किया गया है और पुलिस उन्हें पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही है। रविवार ( 09 जनवरी, 2021) को बिहार के मधेपुरा जिले में पुलिस द्वारा उनके घर पर छापेमारी के बाद से उनका मोबाइल फोन बंद है। स्वास्थ्य विभाग को गुमराह करने के आरोप में उनके खिलाफ दर्ज FIR के बाद गिरफ्तारी के डर से छिपते फिर रहे हैं। 

84 वर्षीय ब्रह्मदेव मंडल ने पीएम नरेंद्र मोदी से हस्तक्षेप करने और उन्हें आरोपों से मुक्त करने का भी अनुरोध किया है। मंडल की पत्नी निर्मला देवी ने पुलिस पर एक अपराधी की तरह उन्हें परेशान करने का आरोप लगाया है।

मंडल की पत्नी ने कहा कि उनका पति कई बीमारियों से पीड़ित है और सीधे खड़े होने या चल पाने में भी असमर्थ है। उन्होंने कहा कि पहला टीका लगने के बाद से वो बेहतर महसूस करने लगे थे और अब वो पूरी तरह से ठीक हो गए हैं।

ब्रह्मदेव मंडल ने यह दावा किया था कि वैक्सीन से उसे काफी फायदा हुआ है, यही वजह रही कि उसने अब तक वैक्‍सीन की 11 डोज ले ली हैं। पुरैनी एसएचओ को लिखित शिकायत में स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी ने आरोप लगाया है कि मंडल ने जानबूझकर और धोखाधड़ी से कोविड वैक्सीन लगवाने के लिए कई पहचान पत्र इस्तेमाल किए।

पुलिस के एक अधिकारी के अनुसार, ब्रह्मदेव मंडल के खिलाफ दी गई शिकायत में आरोप लगाया गया है कि मंडल ने अलग-अलग तारीखों और स्थानों पर अलग-अलग पहचान पत्रों के आधार पर स्वास्थ्य कर्मियों को गुमराह किया और टीकाकरण के नियमों को तोड़ते हुए 11 वैक्सीन की खुराक लगवाई। मंडल ने यह कारनामा 13 फरवरी, 2021 और 4 जनवरी, 2022 के बीच किया।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: