बांग्लादेश में हिन्दू नरसंहार की बात रखने पर YouTube ने लगाया चैनल पर बैन

21 अक्टूबर, 2021 By: डू पॉलिटिक्स स्टाफ़
बांग्लादेशी हिन्दुओं आवाज उठाने पर यूट्यूब ने 'सत्य सनातन' चैनल पर प्रतिबंध लगा दिया है

सोशल मीडिया पर दक्षिणपंथी और हिंदूवादी आवाज़ों को दबाना विदेशी वेबसाइट्स के लिए कोई नई बात नहीं रह गई है और यूट्यूब भी अब इसी राह पर अग्रसर है। कुछ दिन पहले एल्विस यादव नामक यूट्यूबर की एक वीडियो हटाने के बाद यूट्यूब ने ‘सबलोकतंत्र’ यूट्यूब चैनल को पूरी तरह अपने प्लेटफॉर्म से निष्कासित कर दिया था।

अब यूट्यूब ने पुनः एक हिंदूवादी यूट्यूब चैनल को निशाना बनाया है। इस बार यूट्यूब ने ‘सत्य सनातन’ नाम के एक चैनल को 15 दिन के लिए प्रतिबंधित कर दिया है। 

कुछ समय पूर्व बांग्लादेश में दुर्गा पूजा पांडाल पर हुए हमले, इस्कॉन मंदिर में किए गए उपद्रव और बांग्लादेश में निरंतर हो रहे अल्पसंख्यक हिन्दुओं के नरसंहार को लेकर यूट्यूब पर सत्य सनातन नमक चैनल चलाने वाले अंकुर आर्य ने एक वीडियो बनाया था।

इसमें उन्होंने इस विषय को गंभीरता से उठाते हुए बताया था कि किस प्रकार बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदुओं पर निरंतर इस्लामी कट्टरपंथियों द्वारा हमले किए जा रहे हैं एक के बाद एक उनके साथ बलात्कार और हत्याएँ की जा रही हैं।

वीडियो में उन्होंने बताया था कि जहाँ एक ओर इस्कॉन मंदिर के पुजारी और भक्त भी अन्य पंथों के लोगों के साथ पंथनिरपेक्ष होकर व्यवहार करते हैं, उन्हें मंदिरों में भोजन कराने से लेकर हर विपदा के समय उनकी सदा सहायता करते हैं, वहीं कई कट्टरपंथी इस्लामी समूह इस बात को पूरी तरह नजरअंदाज करते हुए निरंतर बांग्लादेश से भी अधिकतर इस्लामी देशों की तरह अल्पसंख्यकों के अस्तित्व को पूरी तरह मिटाने में जुटे हैं।

‘हेट स्पीच’ बताकर चैनल पर लगाया प्रतिबंध 

अपनी वीडियो में अंकुर आर्य ने इन बातों का संज्ञान लिया और इस विषय में आवाज उठाई तो यूट्यूब ने उनकी वीडियो अपने प्लेटफॉर्म से हटा दी और सत्य सनातन चैनल को भी 15 दिनों के लिए प्रतिबंधित कर दिया।

इस दौरान उस चैनल पर अब कोई नई वीडियो नहीं डाली जा सकती। यूट्यूब ने वीडियो को हटाने का कारण यह बताया कि वीडियो में अंकुर ने ‘हेट स्पीच’ का प्रयोग किया है और यूट्यूब गाइडलाइन्स (नियमावली) का उल्लंघन किया है।

बातचीत के दौरान अंकुर आर्य ने हमें बताया कि जब उन्होंने यूट्यूब से सवाल किया कि उनका कौन सा शब्द हेट स्पीच की तरह गिना जाता है या आपत्तिजनक है, तो इस पर व्याख्या देने में यूट्यूब असफल रहा।

बता दें यह कोई पहला अवसर नहीं है जब सत्य सनातन चैनल को प्रतिबंधित किया गया है। इससे पहले भी कई बार इस चैनल की वीडियोज़ को या तो यूट्यूब से हटाया जा चुका है या फिर चैनल को ही प्रतिबंधित किया गया है।

अंकुर ने फिलहाल अपने अन्य चैनल ‘जनता दरबार’ पर नए वीडियो डालना प्रारंभ कर दिया है और उन्होंने आम लोगों से भी आग्रह किया है कि इस विषय को उठाएँ। बता दें कि ‘सत्य सनातन’ अकेला ऐसा चैनल नहीं है जिस पर यूट्यूब द्वारा प्रतिबंध लगाया गया है।

कुछ दिनों पहले रचित कौशिक नामक यूट्यूबर के चैनल ‘सबलोकतंत्र’ को भी यूट्यूब द्वारा प्रतिबंधित कर दिया गया था, जिसके बाद उन्होंने एक नया चैनल बनाया जिसे भी यूट्यूब ने अपने प्लेटफॉर्म से हटा दिया।

पूरे मामले को लेकर अंकुर ने कहा है कि अगर यूट्यूब द्वारा मामले को गंभीरता से नहीं लिया जाता है और इस प्रकार की चीजें बंद नहीं होतीं तो वे इस मामले में न्याय का सहारा लेंगे और कोर्ट जाएँगे।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार