संपादक की पसंद

सब देखें
मुल्तान के हिंदू और जैन मंदिरों में मदरसे

मुल्तान के हिंदू और जैन मंदिरों में मदरसे

1946 की दिवाली पर मुल्तान के मूल निवासियों ने कभी सपनों में नहीं सोचा होगा कि एक साल नहीं अब अंतिम चंद महीने ही उनके पास हैं! अल्लाह का फैसला मोमिन के हक में हो चुका है! मुल्तान में अब उनका कोई हक नहीं!

सेक्युलर सामान के झूठे पुलिंदे

सेक्युलर सामान के झूठे पुलिंदे

फैजल अगर आईएएस बन गया है तो उसके पूरे परिवार की नामजद डिटेल के साथ वह फ्रंट पेज हेडलाइन है। और अगर वह किसी क्राइम में पकड़ा गया है तो वह समुदाय विशेष के तीन युवकों में से एक है।