आंध्र प्रदेश: अवैध मस्जिद का विरोध करना पड़ा भारी, PFI-कट्टरपंथियों ने BJP नेताओं को पीटा, वाहन जलाकर मचाया उपद्रव

10 जनवरी, 2022 By: DoPolitics स्टाफ़
आंध्र प्रदेश में पीएफआई के गुंडों ने किया भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला

आंध्र प्रदेश के कुरनूल ज़िले में अब एक अवैध मस्जिद के निर्माण को लेकर विवाद छिड़ जाने के कारण एक समूह ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला किया। उनके वाहन तोड़ दिए गए और कई लोगों के घायल होने का भी समाचार है। हमला करने वाले पीएफआई और मुस्लिम समुदाय के लोग बताए जा रहे हैं।

आंध्र प्रदेश के कुरनूल ज़िले की आत्मकुर क्षेत्र में शनिवार (8 जनवरी, 2022) की रात को एक भीषण विवाद छिड़ गया। यह विवाद एक अवैध मस्जिद बनाने को लेकर छिड़ा। भाजपा नेता बुद्ध श्रीकांत रेड्डी ने बताया कि जब उन्होंने इस अवैध निर्माण को लेकर सवाल खड़े किए तो उन पर एक भीड़ ने हमला किया।

दरअसल विवाद तब प्रारंभ हुआ जब भाजपा नेता श्रीकांत रेड्डी ने आत्माकुरु पद्मावती स्कूल के पीछे अवैध रूप से मस्जिद बनाए जाने का विरोध किया। मामले ने भीषण रूप ले लिया और कुछ मुस्लिम समुदाय के लोगों ने भाजपा नेताओं के साथ मारपीट करते हुए वाहनों को आग लगाना प्रारंभ कर दिया।

प्रेस रिलीज़ में भाजपा नेता ने कहा:

“यह बहुत ही शर्मनाक और दुर्भाग्यपूर्ण है। भाजपा इसकी कड़ी निंदा कर रही है और हम इस मामले में सख़्त कार्रवाई की माँग करते हैं।”

भाजपा नेताओं ने की निंदा 

भाजपा के जनरल सेक्रेटरी ने इसे नंद्याला ज़िले के भाजपा प्रमुख श्रीकांत रेड्डी की हत्या की साज़िश बताते हुए आंध्र प्रदेश पुलिस ने इस मामले में गहन जाँच की माँग की है। वहीं, पूरे मामले में पुलिस के डीजे सावंत ने कहा कि कुछ लोग कुरनूल ज़िले में विवाद पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पुलिस उन सभी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करेगी, जो भी पंथ के आधार पर लोगों को भड़का रहे हैं। उन्होंने आगे एसपी से आत्मकुर में कानून व्यवस्था का जायज़ा लेने की भी बात कही।

पूरे विवाद में करीब 15 लोगों के घायल हो जाने का समाचार आया है और इस विषय में भाजपा के राष्ट्रीय सचिव सत्य कुमार और सुनील देवधर जैसे नेताओं ने भी ट्वीट करते हुए घटना की निंदा की है। 



जहाँ देवधर ने राज्य सरकार से तुष्टीकरण की राजनीति न करते हुए दंगाइयों को गिरफ्तार करने की माँग की वहीं सत्य कुमार ने बताया कि हमला करने वाले पीएफआई के गुंडे थे, जिन्होंने निजी और सरकारी संपत्ति को भी क्षतिग्रस्त किया।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं:

ताज़ा समाचार