फरहान की फ़िल्म में लव-जिहाद का अजेंडा उजागर करने पर YouTube ने हटाया वीडियो, चैनल पर बैन

07 जुलाई, 2021
16 जुलाई को अमेज़न प्राइम पर फरहान अख़्तर की फ़िल्म 'तूफान' रिलीज़ हो रही है

आने वाली 16 जुलाई को अमेज़न प्राइम पर एक फ़िल्म रिलीज़ हो रही है, ‘तूफान’ (Toofaan)। फ़िल्म में मुख्य अभिनेता हैं फरहान अख़्तर और उनकी हिरोइन हैं मृणाल ठाकुर। फ़िल्म में फरहान अख़्तर एक बॉक्सर की भूमिका में जिनका नाम है अजीज अली! अभिनेत्री मृणाल ठाकुर ने Toofaan फ़िल्म में अजीज अली की प्रेमिका और पत्नी का किरदार निभाया जिनका नाम रखा गया है पूजा शाह।

Toofaan फ़िल्म के ट्रेलर में ऐसे कई दृश्य हैं जिनमें ‘लव-जिहाद’ का अजेंडा साफ नजर आता है, पूरी फिल्म तो खैर माशाअल्लाह होगी। ‘सब लोकतंत्र’ (SabLoktantra) नाम का एक यूट्यूब चैनल चलाने वाले रचित कौशिक ने जब फ़िल्म में लव-जिहाद से जुड़े दृश्यों की ओर ध्यान दिलाते हुए फ़िल्म समीक्षा का वीडियो बनाया तो यूट्यूब ने उनका ये वीडियो ही डिलीट कर दिया।


‘सब लोकतंत्र’ चैनल से न सिर्फ ये वीडियो डिलीट किया गया बल्कि 7 दिनों के लिए यूट्यूब चैनल ‘सब लोकतंत्र’ को बैन भी कर दिया। इसका मतलब न तो अब ‘सब लोकतंत्र’ चैनल से अगले 7 दिनों तक कोई वीडियो अपलोड हो सकता है और न ही इस अवधि में वो कोई अन्य कन्टेन्ट प्रकाशित कर पाएँगे। यूट्यूब ने इस चैनल द्वारा ‘लव-जिहाद’ के मुद्दों को उठाने को ‘हेट स्पीच’ कैटगरी का घोषित किया है और कहा है कि यह सामग्री नफरत फैलाने वाली है।

‘तूफ़ान’ के 3 मिनट 11 सेकंड के ‘ट्रेलर’ में छिपा ‘लव-जिहाद’ का अजेंडा

एक नज़र फ़िल्म के ट्रेलर पर डाल लेते हैं। फ़िल्म का मुख्य किरदार एक मुस्लिम समुदाय का व्यक्ति ‘अजीज अली’ है जो एक ईमानदार और शरीर जैसा मवाली और गुंडा है। लोगों से मारपीट ही उसका काम है और मारपीट में आई चोट के इलाज के लिए वो डॉक्टर ‘पूजा शाह’ के पास जाता है। ‘पूजा शाह’ को ‘अजीज अली’ से प्यार हो जाता है और ‘पूजा शाह’ उससे कहती है कि जब मारपीट ही करनी है तो इसे प्रोफेशन बना लो।

अजीज अली एक बॉक्सिंग से कोच से मिलता है जिसका किरदार निभाया है परेश रावल ने। बॉक्सिंग कोच उसे ओलंपिक लेवल का बॉक्सर बना देता है। एक दृश्य में कोच अजीज अली से कहता है कि तुम जिस ईश्वर को मानते हो उसके सामने माथा टेक आओ, तो अज़ीज अली अपनी प्रेमिका पूजा शाह को ‘आदाब’ कहता है, जवाब में पूजा शाह भी उसे ‘आदाब’ कहती है।

दिलचस्प बात ये है कि तब तक न तो पूजा शाह ने अजीज अली से निकाह किया था और न ही उसने इस्लाम कुबूल किया था।


बॉक्सर बनने के बाद ‘अजीज अली’ की जिंदगी में बहार आ जाती है और वो पूजा शाह से शादी कर लेता है। ट्रेलर में अज़ीज अली के घर मे दीवार पर एक तस्वीर दिखती है, जिसमें अज़ीज अली और पूजा ने हिन्दू रीति-रिवाजों के अनुरूप शादी की होती है।

इसके बाद अज़ीज अली बॉक्सिंग का एक मैच हार जाता है, वो जमीन पर घायल पड़ा होता है और बैकग्राउंड से आवाज़ आती है, “तूफ़ान ने अपने प्रशंसकों का दिल तोड़ दिया। जिस मंदिर की आप पूजा करते हैं, आपने उसके साथ विश्वासघात किया है।”

अज़ीज अली मन्दिर की पूजा करता है..? अमेजिंग न? खैर… अजीज अली का लाइसेंस कैंसिल हो जाता है। इसके बाद उसे बॉक्सिंग से नफरत हो जाती है, लेकिन पत्नी ‘पूजा शाह’ के हौसला बढ़ाने पर वो वापस रिंग में लौटता है।

ट्रेलर की बारीकियों को उजागर करने पर ‘सब लोकतंत्र’ बैन

फ़िल्म के ट्रेलर में छुपी ‘लव-जिहाद’ को प्रोत्साहन देने की इन्ही बारीकियों को पकड़ कर उजागर करते हुए यूट्यूब चैनल ‘सब-लोकतंत्र’ चलाने वाले रचित कौशिक ने एक फ़िल्म समीक्षा वीडियो अपने चैनल पर अपलोड किया था, जिसे यूट्यूब में ‘हेट स्पीच’ मानते हुए हटा दिया। साथ ही, चैनल पर 7 दिनों का बैन भी लगा दिया गया।

डिलिट किए जाने से पहले इस वीडियो पर तकरीबन 3 लाख व्यूज़ आ चुके थे। बता दें कि ‘सब लोकतंत्र’ एक व्यंग्यात्मक कंटेंट वाला यूट्यूब चैनल है, जहाँ रचित कौशिक दिलचस्प तरीके से मुद्दों पर अपनी बात रखते हैं। ‘

रचित ने DO politics को बताया कि क्या था ‘डिलीट’ वीडियो में

हमारे चैनल DO politics से बात करते हुए रचित कौशिक ने बताया कि आने वाली फ़िल्म ‘तूफान’ के ट्रेलर में ‘लव जिहाद’ को बहुत ही बारीक और गुप्त तरीके से दर्शकों के सामने परोसा जा रहा है। उन्होंने बताया कि समीक्षा वीडियो की शुरुआत उन्होंने मन्ना डे के गाए एक गीत ‘तेरी गठरी में लगा चोर, मुसाफिर जाग जरा’ से करते हुए लोगों को सचेत किया था कि ‘उर्दू फिल्म इंडस्ट्री’ की नजर आपकी ‘गठरी’ पर है।

इसके बाद उन्होंने फरहान अख़्तर अभिनीत ‘तूफ़ान’ के ट्रेलर की समीक्षा करते हुए अपने दर्शकों को बताया था कि कैसे अनपढ़ और गौरक़ानूनी काम करने वाले मुम्बई के एक गुंडे ‘अज़ीज़ अली उर्फ अज्जू भाई’ को ‘स्ट्रीट फाइटर’ कहा गया है। वीडियो में उन्होंने कहा था कि गुंडा चूँकि एक ‘शांतिदूत’ है, इसीलिए पूजा शाह नाम की एक हिन्दू डॉक्टर उससे शादी कर लेती हैं।

इसके बाद तंज करते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें अच्छी तरह पता है कि फ़िल्म में ‘हिन्दू लड़की’ द्वारा ‘मुस्लिम लड़के’ से ‘प्रेम और विवाह’ मात्र एक संयोग है, न कि कोई षड्यंत्र लेकिन ऐसा संयोग ही बार बार क्यों होता है? आखिर किसी फिल्म में लड़के का नाम रामप्रसाद और लड़की का नाम आयशा क्यों नहीं होता? रचित ने कहा था कि पिछले 70 वर्षों से लगातार फिल्मों में ऐसा ही ‘संयोग’ हो रहा है।

रचित ने अपने इस वीडियो में कहा था कि 3 मिनट के इस ट्रेलर की छोटी-छोटी बारीकियाँ पिछले दिनों आए तनिष्क के विज्ञापन की तरह ही हैं। हिन्दू रीति-रिवाज से शादी दर्शाने वाली तस्वीर को लेकर रचित कहते है कि फ़िल्म में अज़ीज़ अली को खुले ख्यालों वाला दिखाने की कोशिश की गई है, इसी को अल-तकिया कहते हैं। उन्होंने कहा कि वास्तविकता में पूजा को शादी के लिए धर्म-परिवर्तन करना पड़ेगा और एक काले टेंट को पहन कर अज़ीज़ की अन्य बीवियों के साथ रहना होगा।

गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर भी इस फिल्म के ट्रेलर के बाद इसके बॉयकॉट करने की माँग जोर पकड़ रही है।


Toofaan फिल्म का ट्रेल

यूट्यूब चैनल ‘सब लोकतंत्र’ के मालिक रचित ने अपने इस वीडियो में अपने दर्शकों को चेतावनी दी थी कि इस फिल्म के निशाने पर समाज की 15-16 साल की लड़कियाँ होंगी, जो ये सोचेंगी कि अज़ीज़ कितना अच्छा है और प्यार के लिए कितना कुछ करता है और उनके आसपास घूम रहे अज़ीज़ इसी का फायदा उठाएँगे।

उन्होंने कहा था कि लड़कियों में अज़ीज़ के प्रति प्रेम और अपने धर्म के प्रति घृणा फैलाने के लिए ये सब किया गया है। वो सवाल उठाते हैं कि हिन्दू पूजा आखिर ‘आदाब’ क्यों करती है? रचित उदाहरण देते हैं कि ऐसे ही ‘अनजाना-अनजानी’ फिल्म में आकाश (रणबीर कपूर) और कियारा (प्रियंका चोपड़ा) ‘तू न जाने आसपास है खुदा’ गाना गाते हैं।

वीडियो में रचित कौशिक ने फरहान अख्तर को खुद ‘लव-जिहाद का परिणाम’ बताते हुए कहा था कि उनके पिता जावेद अख्तर ने एक पारसी लड़की हनी ईरानी से शादी की थी और जब मन भर गया तो उन्हें छोड़ कर शबाना आजमी से शादी कर ली।

उन्होंने कहा कि फरहान अख्तर ने भी अपने अब्बा-हुजूर के नक्शेकदम पर चलते हुए पहले एक हिन्दू अधुना भबानी से शादी की और दो बच्चे पैदा किए। अब फरहान का अफेयर दूसरी हिन्दू लड़की शिबानी दांडेकर के साथ चल रहा है।

DO poliitics से बात करते हुए रचित ने बताया कि इससे पहले भी यूट्यूब ने AIMIM अध्यक्ष अससुद्दीन ओवैसी और यूपी के सीएम आदित्यनाथ से जुड़ा उनका एक वीडियो डिलीट किया था।

असदुद्दीन ओवैसी ने उत्तर प्रदेश में होने वाले 2022 विधानसभा चुनावों को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चुनौती दी थी जिस पर रचित ने एक व्यंगात्मक वीडियो अपने चैनल ‘सब लोकतंत्र’ पर अपलोड किया था। मात्र 12 घण्टे में रचित के इस वीडियो पर 1.35 लाख व्यू आ गए थे। यूट्यूब ने इस वीडियो को नियमों का उल्लंघन मानते हुए हटा दिया गया था।

अपने ‘मज़हब’ के प्रति झुकाव प्रदर्शित करते रहे हैं फरहान

फरहान अख्तर भले ही बॉलीवुड में एक अभिनेता, कहानीकार, गीतकार और प्रोड्यूसर माने जाते हों, लेकिन ट्विटर पर उनकी हैसियत एक ट्रोल से ज्यादा नहीं है। अपने पिता जावेद अख्तर की तरह वो दक्षिणपंथियों, भाजपा समर्थकों और पीएम मोदी को ट्रोल करते ही नज़र आते हैं।

फरहान अख्तर ने एक ट्वीट कर के लोगों को भड़काने के लिए अफवाह भी फैलाई थी। अपने ट्वीट में फरहान ने लिखा था कि CAA और NRC लागू होने के बाद आदिवासियों, दलितों और महिलाओं को देश से बाहर निकाल दिया जाएगा।

फरहान अख्तर को CAA विरोधी प्रदर्शनों में भी शामिल हुए थे। हालाँकि उन्होंने खुद माना था कि उन्हें CAA कानून के बारे में कुछ भी नहीं पता, वो तो बस इसलिए विरोध करने आए हैं क्योंकि ‘बाकी लोग भी’ विरोध कर रहे हैं।



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: