रजिया-सुजान विवाह: मुस्लिम लड़की से शादी पर घर-गाँव छोड़ने को विवश हुआ हिंदू परिवार

18 जुलाई, 2021
डर के मारे भागने को मजबूर युगल

बंगाल के बीरभूम ज़िले से एक विवाहित हिन्दू युगल पर प्रताड़ना का एक गंभीर मामला सामने आया है। यहाँ एक हिंदू युवक को एक मुस्लिम महिला से शादी करने के कारण धमकाया जा रहा है, जिसके कारण उन्हें परिवार समेत अपना घर-गाँव छोड़कर जाना पड़ा।

पश्चिम बंगाल में हिन्दुओं पर होने वाली यातनाएँ दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही हैं। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के बाद हिंदुओं के साथ हुई हिंसा अब देश से छिपी नहीं है। ऐसे में एक विवाहित युगल को धमकाने और जान से मारने की धमकी देने का समाचार भी सामने आया है।

रज़िया और सुजान ने इच्छानुसार किया विवाह

सुजान माल नामक हिंदू युवक ने रज़िया खातून नाम की मुस्लिम महिला से 25 जून, 2021 को विवाह किया। सुजान माली श्रीपुर गांव का रहने वाला है जो बीरभूम जिले में लगता है सुजान का यह गांव नलहटी पुलिस थाने के अंतर्गत आता है।

विवाह के पश्चात रज़िया ने अपना नाम बदलकर रिया कर लिया। रिया का कहना है कि वह बालिग़ है तथा उन्होंने अपनी मर्ज़ी से विवाह किया है और अब वह रिया माल के नाम से जाने जाना चाहती हैं।

जान का दुश्मन बना मुस्लिम परिवार

विवाह के पश्चात सुजान ने यह शिकायत की है कि रिया के घरवाले यानी मुस्लिम परिवार उनके इस विवाह को जायज़ नहीं मान रहा है। सुजान ने यह आरोप भी लगाया कि उसके ससुराल वाले उन्हें यातनाएँ दे रहे हैं। 

सुजान ने पुलिस थाने में भी मामले को लेकर शिकायत दर्ज करानी चाही परंतु पुलिस ने भी इस पर कोई ध्यान नहीं दिया। इसी कारण शादीशुदा जोड़े को अपना गाँव छोड़कर भागना पड़ रहा है।

रिया माल ने अपने परिवार पर आरोप लगाते हुए कहा कि:

“मैं एक बालिग़ हूँ। हमने अपनी इच्छा से शादी की है। अब मेरा नाम रिया माल है। मेरे परिवार के कुछ लोग और गाँव वाले मेरी सुजान से शादी करने को लेकर हमें परेशान कर रहे हैं। हमने पुलिस थाने में भी शिकायत दर्ज करानी चाही परंतु उन्होंने कोई कदम नहीं उठाया। मेरा परिवार हमें मारना चाहता है इसलिए हमें यह गाँव छोड़ना पड़ रहा है।”

बता दें कि इसके उपरांत सुजान और उसके परिवार को अपना नलहाती स्थित घर छोड़कर रामपुरथ में अपने रिश्तेदार के घर शरण लेनी पड़ी है। इसी बीच रिया के पिता ने सुजान और उसके परिवार के विरुद्ध अपहरण का मामला दर्ज करा दिया है। सुजान को इसी कारणवश शनिवार (17 जुलाई, 2021) को रामपुरथ कोर्ट में हाज़िर होना पड़ा।

पूरे मामले को लेकर बीरभूम ज़िले के एसपी नागेंद्र त्रिपाठी का केवल इतना कहना है कि वह मामले की जाँच-पड़ताल कर रहे हैं। बता दें कि अब तक मामले को लेकर पुलिस द्वारा कोई गिरफ्तारी या बड़ा कदम नहीं उठाया गया है। 



सहयोग करें
वामपंथी मीडिया तगड़ी फ़ंडिंग के बल पर झूठी खबरें और नैरेटिव फैलाता रहता है। इस प्रपंच और सतत चल रहे प्रॉपगैंडा का जवाब उसी भाषा और शैली में देने के लिए हमें आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। आप निम्नलिखित लिंक्स के माध्यम से हमें समर्थन दे सकते हैं: